id
stringlengths
1
4
context
stringlengths
1.16k
8.86k
question
stringlengths
19
138
answers
sequence
itv2 hi question
stringlengths
15
165
itv2 hi context
stringlengths
1.19k
9.04k
itv2 hi answers
dict
0
"दलाई लामा ने अपनी संवेदना और प्रार्थना व्यक्त की और कलाम की मौत को "एक अपूरणीय क्षति" बुला, अपना दुख व्यक्त किया। उन्होंने यह भी कहा, "अनेक वर्षों में, मुझे कई अवसरों पर कलाम के साथ बातचीत करने का मौका मिला। वह एक महान वैज्ञानिक, शिक्षाविद और राजनेता ही नहीं, बल्कि वे एक वास्तविक सज्जन थे, और हमेशा मैंने उनकी सादगी और विनम्रता की प्रशंसा की है। मैंने सामान्य हितों के विषयों की एक विस्तृत श्रृंखला पर हमारी चर्चाओं का आनंद लिया, लेकिन विज्ञान, अध्यात्म और शिक्षा के साथ मुख्य रूप से हमारे बीच चिंतन किया जाता था। " दक्षिण एशियाई नेताओं ने अपनी संवेदना व्यक्त की और दिवंगत राजनेता की सराहना की। भूटान सरकार ने कलाम की मौत के शोक के लिए देश के झंडे को आधी ऊंचाई पर फहराने के लिए आदेश दिया, और श्रद्धांजलि में 1000 मक्खन के दीपक की भेंट किए। भूटान के प्रधानमंत्री शेरिंग तोबगे ने कलाम के प्रति अपना गहरा दुख व्यक्त करते हुए कहा, "वे एक महान नेता थे जिनकी सभी ने प्रशंसा की विशेषकर भारत के युवाओं के वे प्रशंसनीय नेता थे जिन्हें वे जनता का राष्ट्रपति बुलाते थे। "बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने उनकी व्याख्या करते हुए कहा, "एक महान राजनेता प्रशंसित वैज्ञानिक और दक्षिण एशिया के युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणा स्रोत के संयोग" उन्होंने कलाम की मृत्यु को "भारत के लिए अपूरणीय क्षति से भी परे बताया। " उन्होंने यह भी कहा कि भारत के सबसे प्रसिद्ध बेटे, पूर्व राष्ट्रपति के निधन पर हमें गहरा झटका लगा है। ए॰पी॰जे॰ अब्दुल कलाम अपने समय के सबसे महान ज्ञानियों में से एक थे। वह बांग्लादेश में भी बहुत सम्मानित थे। उनकी विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत की वृद्धि करने के लिए अमूल्य योगदान के लिए वे सभी के द्वारा हमेशा याद किये जायेंगे। वे दक्षिण एशिया की युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणा का स्रोत थे जो उनके सपनों को पंख देते थे। " बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी की प्रमुख खालिदा जिया ने कहा, "एक परमाणु वैज्ञानिक के रूप में, उन्होंने लोगों के कल्याण में स्वयं को समर्पित किया। "अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी, ने कलाम को, "लाखों लोगों के लिए एक प्रेरणादायक शख्सियत बताया" ये नोट करते हुए "हमे अपने जीवन से बहुत कुछ सीखना है। " नेपाली प्रधानमंत्री सुशील कोइराला ने भारत के लिए कलाम के वैज्ञानिक योगदानों को याद किया। "नेपाल ने एक अच्छा दोस्त खो दिया है और मैंने एक सम्मानित और आदर्श व्यक्तित्व को खो दिया है। "पाकिस्तान के राष्ट्रपति, ममनून हुसैन और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने पूर्व राष्ट्रपति के निधन पर उनके प्रति दु: ख, शोक व संवेदना व्यक्त की। श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरिसेना ने कहा, "कलाम दृढ़ विश्वास और अदम्य भावना के आदमी थे। मैंने उन्हें दुनिया के एक उत्कृष्ट राजनेता के रूप में देखा था। उनकी मौत भारत के लिए, बल्कि पूरी दुनिया के लिए अपूरणीय क्षति है। "इंडोनेशियाई राष्ट्रपति सुसीलो बम्बनग युधोयोनो, मलेशिया के प्रधानमंत्री नजीब रजाक, सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सियन लूंग , संयुक्त अरब अमीरात के राष्ट्रपति शेख खलीफा बिन जायद अल नहयान सहित अन्य अंतरराष्ट्रीय नेताओं,, और संयुक्त अरब अमीरात के प्रधानमंत्री और दुबई के शासक ने भी कलाम को श्रद्धांजलि अर्पित की। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने भारत सरकार, भारत के सभी लोगों के लिए और मृतक नेता ले प्रियजनों के लिए अपनी गंभीर संवेदना व्यक्त की और अपनी सहानुभूति और समर्थन से अवगत कराते हुए कहा, "कलाम को हमारे देशों के बीच लगातार मैत्रीपूर्ण संबंधों के एक प्रतिपादक के रूप में याद किया जाएगा, उन्होंने भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा को सुनिश्चित करने में सामाजिक, आर्थिक, वैज्ञानिक और तकनीकी प्रगति के लिए व्यक्तिगत योगदान दिया। उन्होंने पारस्परिक रूप से लाभप्रद रूसी-भारतीय सहयोग जोड़ने के लिए बहुत कुछ किया। "संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा," अमेरिकी लोगों की ओर से, मैं पूर्व भारतीय राष्ट्रपति ए॰पी॰जे॰ अब्दुल कलाम के निधन पर भारत के लोगों के लिए अपनी गहरी संवेदना का विस्तार करना चाहता हूँ। एक वैज्ञानिक और राजनेता, कलाम ने अपनी विनम्रता से घर में और विदेशों में सम्मान कमाया और भारत के सबसे महान नेताओं में से एक बने। भारत-अमेरिका के मजबूत संबंधों के लिए, डा कलाम ने सदा वकालत की। 1962 में संयुक्त राज्य अमेरिका की यात्रा के दौरान नासा के साथ अंतरिक्ष सहयोग को गहरा करने के लिए काम किया।
ए. पी. जे. अब्दुल कलाम भारत के राष्ट्रपति बनने के सूची में कितने पायदान पर आते हैं ?
{ "text": [ "" ], "answer_start": [ null ] }
How many places does A.P.J. Abdul Kalam rank in the list of presidents of India?
"The Dalai Lama expressed his condolences and prayers and called Kalam's death" an irreparable loss ", expressed his grief. He also said," Over the years, I got a chance to interact with Kalam on many occasions.He was not only a great scientist, educationist and politician, but he was a real gentleman, and I have always praised his simplicity and humility.I enjoyed our discussions on a wide range of subjects of general interests, but was mainly contemplated between us with science, spirituality and education."South Asian leaders expressed their condolences and appreciated the late politician. The Bhutan government ordered the flag of the country to hoist the country at half a height to mourn the death of Kalam, and presented 1000 butter lamps in tribute.Bhutan's Prime Minister Shering Tobge expressed his deep grief to Kalam, saying, "He was a great leader whom all praised, especially the youth of the youth of India, who were called the President of the people."Bangladesh's Prime Minister Sheikh Hasina explained him, saying," A great politician is a conjunction of the inspiration for the administered scientist and a source of inspiration for the younger generation of South Asia "he also described Kalam's death" beyond irreparable damage to India."He also said that we have suffered a deep setback on the death of India's most famous son, former President. APJ Abdul Kalam was one of the greatest knowledge of his time. He was also very honored in Bangladesh.They would always be remembered by all for their invaluable contribution to India's growth in the field of science and technology. They were the source of inspiration for the younger generation of South Asia who used to give wings to their dreams. ”Bangladesh Nationalist Party"As an nuclear scientist, he dedicated himself to the welfare of the people." Afghanistan President Ashraf Ghani, told Kalam, "described as an inspirational figure for millions of people"."We have to learn a lot from our lives." Nepali Prime Minister Sushil Koirala remembered Kalam's scientific contributions for India."Nepal has lost a good friend and I have lost a respected and ideal personality." Mamnoon Hussain and Pakistan Prime Minister Nawaz Sharif expressed grief, grief and condolences to the former President's deathof.Sri Lankan President Maitripala Sirisena said, "Kalam was a man of conviction and indomitable spirit. I saw him as an excellent politician in the world. His death is an irreparable loss for India, but for the whole world." Indonesian PresidentSusil Bambang Yudhoyono, Malaysia Prime Minister Najeeb Razak, Singapore Prime Minister Li Sian Loong, United Arab Emirate President Sheikh Khalifa bin Zayed Al Nahayan and other international leaders, and the United Arab Emirates Prime Minister and the ruler of Dubai also paid homage to Kalamof.Russian President Vladimir Putin expressed his serious condolences to all the people of the Government of India, for all the people of India and the deceased leaders and informed about their sympathy and support, saying, "Kalam is a composer of constant friendly relations between our countriesAs remembered, he made a personal contribution to social, economic, scientific and technological progress in ensuring India's national security. He did a lot to add mutually beneficial Russian-Indian cooperation. "The United StatesPresident Barack Obama said, "On behalf of American people, I want to expand my deep condolences to the people of India on the death of former Indian President APJ Abdul Kalam. A scientist and politician, Kalam,Earned honor at home and abroad with his humility and became one of the greatest leaders of India. For strong relations between Indo-US, Dr. Kalam always advocated. Space with NASA during a visit to United States in 1962Worked to deepen cooperation.
{ "answer_start": [ null ], "text": [ "" ] }
1
"दलाई लामा ने अपनी संवेदना और प्रार्थना व्यक्त की और कलाम की मौत को "एक अपूरणीय क्षति" बुला, अपना दुख व्यक्त किया। उन्होंने यह भी कहा, "अनेक वर्षों में, मुझे कई अवसरों पर कलाम के साथ बातचीत करने का मौका मिला। वह एक महान वैज्ञानिक, शिक्षाविद और राजनेता ही नहीं, बल्कि वे एक वास्तविक सज्जन थे, और हमेशा मैंने उनकी सादगी और विनम्रता की प्रशंसा की है। मैंने सामान्य हितों के विषयों की एक विस्तृत श्रृंखला पर हमारी चर्चाओं का आनंद लिया, लेकिन विज्ञान, अध्यात्म और शिक्षा के साथ मुख्य रूप से हमारे बीच चिंतन किया जाता था। " दक्षिण एशियाई नेताओं ने अपनी संवेदना व्यक्त की और दिवंगत राजनेता की सराहना की। भूटान सरकार ने कलाम की मौत के शोक के लिए देश के झंडे को आधी ऊंचाई पर फहराने के लिए आदेश दिया, और श्रद्धांजलि में 1000 मक्खन के दीपक की भेंट किए। भूटान के प्रधानमंत्री शेरिंग तोबगे ने कलाम के प्रति अपना गहरा दुख व्यक्त करते हुए कहा, "वे एक महान नेता थे जिनकी सभी ने प्रशंसा की विशेषकर भारत के युवाओं के वे प्रशंसनीय नेता थे जिन्हें वे जनता का राष्ट्रपति बुलाते थे। "बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने उनकी व्याख्या करते हुए कहा, "एक महान राजनेता प्रशंसित वैज्ञानिक और दक्षिण एशिया के युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणा स्रोत के संयोग" उन्होंने कलाम की मृत्यु को "भारत के लिए अपूरणीय क्षति से भी परे बताया। " उन्होंने यह भी कहा कि भारत के सबसे प्रसिद्ध बेटे, पूर्व राष्ट्रपति के निधन पर हमें गहरा झटका लगा है। ए॰पी॰जे॰ अब्दुल कलाम अपने समय के सबसे महान ज्ञानियों में से एक थे। वह बांग्लादेश में भी बहुत सम्मानित थे। उनकी विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत की वृद्धि करने के लिए अमूल्य योगदान के लिए वे सभी के द्वारा हमेशा याद किये जायेंगे। वे दक्षिण एशिया की युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणा का स्रोत थे जो उनके सपनों को पंख देते थे। " बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी की प्रमुख खालिदा जिया ने कहा, "एक परमाणु वैज्ञानिक के रूप में, उन्होंने लोगों के कल्याण में स्वयं को समर्पित किया। "अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी, ने कलाम को, "लाखों लोगों के लिए एक प्रेरणादायक शख्सियत बताया" ये नोट करते हुए "हमे अपने जीवन से बहुत कुछ सीखना है। " नेपाली प्रधानमंत्री सुशील कोइराला ने भारत के लिए कलाम के वैज्ञानिक योगदानों को याद किया। "नेपाल ने एक अच्छा दोस्त खो दिया है और मैंने एक सम्मानित और आदर्श व्यक्तित्व को खो दिया है। "पाकिस्तान के राष्ट्रपति, ममनून हुसैन और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने पूर्व राष्ट्रपति के निधन पर उनके प्रति दु: ख, शोक व संवेदना व्यक्त की। श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरिसेना ने कहा, "कलाम दृढ़ विश्वास और अदम्य भावना के आदमी थे। मैंने उन्हें दुनिया के एक उत्कृष्ट राजनेता के रूप में देखा था। उनकी मौत भारत के लिए, बल्कि पूरी दुनिया के लिए अपूरणीय क्षति है। "इंडोनेशियाई राष्ट्रपति सुसीलो बम्बनग युधोयोनो, मलेशिया के प्रधानमंत्री नजीब रजाक, सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सियन लूंग , संयुक्त अरब अमीरात के राष्ट्रपति शेख खलीफा बिन जायद अल नहयान सहित अन्य अंतरराष्ट्रीय नेताओं,, और संयुक्त अरब अमीरात के प्रधानमंत्री और दुबई के शासक ने भी कलाम को श्रद्धांजलि अर्पित की। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने भारत सरकार, भारत के सभी लोगों के लिए और मृतक नेता ले प्रियजनों के लिए अपनी गंभीर संवेदना व्यक्त की और अपनी सहानुभूति और समर्थन से अवगत कराते हुए कहा, "कलाम को हमारे देशों के बीच लगातार मैत्रीपूर्ण संबंधों के एक प्रतिपादक के रूप में याद किया जाएगा, उन्होंने भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा को सुनिश्चित करने में सामाजिक, आर्थिक, वैज्ञानिक और तकनीकी प्रगति के लिए व्यक्तिगत योगदान दिया। उन्होंने पारस्परिक रूप से लाभप्रद रूसी-भारतीय सहयोग जोड़ने के लिए बहुत कुछ किया। "संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा," अमेरिकी लोगों की ओर से, मैं पूर्व भारतीय राष्ट्रपति ए॰पी॰जे॰ अब्दुल कलाम के निधन पर भारत के लोगों के लिए अपनी गहरी संवेदना का विस्तार करना चाहता हूँ। एक वैज्ञानिक और राजनेता, कलाम ने अपनी विनम्रता से घर में और विदेशों में सम्मान कमाया और भारत के सबसे महान नेताओं में से एक बने। भारत-अमेरिका के मजबूत संबंधों के लिए, डा कलाम ने सदा वकालत की। 1962 में संयुक्त राज्य अमेरिका की यात्रा के दौरान नासा के साथ अंतरिक्ष सहयोग को गहरा करने के लिए काम किया।
"नेपाल ने एक अच्छा दोस्त खो दिया है" यह बात किसने कही थी?
{ "text": [ "नेपाली प्रधानमंत्री सुशील कोइराला" ], "answer_start": [ 1911 ] }
Who said "Nepal has lost a good friend"?
"The Dalai Lama expressed his condolences and prayers and called Kalam's death" an irreparable loss ", expressed his grief. He also said," Over the years, I got a chance to interact with Kalam on many occasions.He was not only a great scientist, educationist and politician, but he was a real gentleman, and I have always praised his simplicity and humility.I enjoyed our discussions on a wide range of subjects of general interests, but was mainly contemplated between us with science, spirituality and education."South Asian leaders expressed their condolences and appreciated the late politician. The Bhutan government ordered the flag of the country to hoist the country at half a height to mourn the death of Kalam, and presented 1000 butter lamps in tribute.Bhutan's Prime Minister Shering Tobge expressed his deep grief to Kalam, saying, "He was a great leader whom all praised, especially the youth of the youth of India, who were called the President of the people."Bangladesh's Prime Minister Sheikh Hasina explained him, saying," A great politician is a conjunction of the inspiration for the administered scientist and a source of inspiration for the younger generation of South Asia "he also described Kalam's death" beyond irreparable damage to India."He also said that we have suffered a deep setback on the death of India's most famous son, former President. APJ Abdul Kalam was one of the greatest knowledge of his time. He was also very honored in Bangladesh.They would always be remembered by all for their invaluable contribution to India's growth in the field of science and technology. They were the source of inspiration for the younger generation of South Asia who used to give wings to their dreams. ”Bangladesh Nationalist Party"As an nuclear scientist, he dedicated himself to the welfare of the people." Afghanistan President Ashraf Ghani, told Kalam, "described as an inspirational figure for millions of people"."We have to learn a lot from our lives." Nepali Prime Minister Sushil Koirala remembered Kalam's scientific contributions for India."Nepal has lost a good friend and I have lost a respected and ideal personality." Mamnoon Hussain and Pakistan Prime Minister Nawaz Sharif expressed grief, grief and condolences to the former President's deathof.Sri Lankan President Maitripala Sirisena said, "Kalam was a man of conviction and indomitable spirit. I saw him as an excellent politician in the world. His death is an irreparable loss for India, but for the whole world." Indonesian PresidentSusil Bambang Yudhoyono, Malaysia Prime Minister Najeeb Razak, Singapore Prime Minister Li Sian Loong, United Arab Emirate President Sheikh Khalifa bin Zayed Al Nahayan and other international leaders, and the United Arab Emirates Prime Minister and the ruler of Dubai also paid homage to Kalamof.Russian President Vladimir Putin expressed his serious condolences to all the people of the Government of India, for all the people of India and the deceased leaders and informed about their sympathy and support, saying, "Kalam is a composer of constant friendly relations between our countriesAs remembered, he made a personal contribution to social, economic, scientific and technological progress in ensuring India's national security. He did a lot to add mutually beneficial Russian-Indian cooperation. "The United StatesPresident Barack Obama said, "On behalf of American people, I want to expand my deep condolences to the people of India on the death of former Indian President APJ Abdul Kalam. A scientist and politician, Kalam,Earned honor at home and abroad with his humility and became one of the greatest leaders of India. For strong relations between Indo-US, Dr. Kalam always advocated. Space with NASA during a visit to United States in 1962Worked to deepen cooperation.
{ "answer_start": [ 1911 ], "text": [ "Prime Minister of Nepal Sushil Koirala" ] }
2
"दलाई लामा ने अपनी संवेदना और प्रार्थना व्यक्त की और कलाम की मौत को "एक अपूरणीय क्षति" बुला, अपना दुख व्यक्त किया। उन्होंने यह भी कहा, "अनेक वर्षों में, मुझे कई अवसरों पर कलाम के साथ बातचीत करने का मौका मिला। वह एक महान वैज्ञानिक, शिक्षाविद और राजनेता ही नहीं, बल्कि वे एक वास्तविक सज्जन थे, और हमेशा मैंने उनकी सादगी और विनम्रता की प्रशंसा की है। मैंने सामान्य हितों के विषयों की एक विस्तृत श्रृंखला पर हमारी चर्चाओं का आनंद लिया, लेकिन विज्ञान, अध्यात्म और शिक्षा के साथ मुख्य रूप से हमारे बीच चिंतन किया जाता था। " दक्षिण एशियाई नेताओं ने अपनी संवेदना व्यक्त की और दिवंगत राजनेता की सराहना की। भूटान सरकार ने कलाम की मौत के शोक के लिए देश के झंडे को आधी ऊंचाई पर फहराने के लिए आदेश दिया, और श्रद्धांजलि में 1000 मक्खन के दीपक की भेंट किए। भूटान के प्रधानमंत्री शेरिंग तोबगे ने कलाम के प्रति अपना गहरा दुख व्यक्त करते हुए कहा, "वे एक महान नेता थे जिनकी सभी ने प्रशंसा की विशेषकर भारत के युवाओं के वे प्रशंसनीय नेता थे जिन्हें वे जनता का राष्ट्रपति बुलाते थे। "बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने उनकी व्याख्या करते हुए कहा, "एक महान राजनेता प्रशंसित वैज्ञानिक और दक्षिण एशिया के युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणा स्रोत के संयोग" उन्होंने कलाम की मृत्यु को "भारत के लिए अपूरणीय क्षति से भी परे बताया। " उन्होंने यह भी कहा कि भारत के सबसे प्रसिद्ध बेटे, पूर्व राष्ट्रपति के निधन पर हमें गहरा झटका लगा है। ए॰पी॰जे॰ अब्दुल कलाम अपने समय के सबसे महान ज्ञानियों में से एक थे। वह बांग्लादेश में भी बहुत सम्मानित थे। उनकी विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत की वृद्धि करने के लिए अमूल्य योगदान के लिए वे सभी के द्वारा हमेशा याद किये जायेंगे। वे दक्षिण एशिया की युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणा का स्रोत थे जो उनके सपनों को पंख देते थे। " बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी की प्रमुख खालिदा जिया ने कहा, "एक परमाणु वैज्ञानिक के रूप में, उन्होंने लोगों के कल्याण में स्वयं को समर्पित किया। "अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी, ने कलाम को, "लाखों लोगों के लिए एक प्रेरणादायक शख्सियत बताया" ये नोट करते हुए "हमे अपने जीवन से बहुत कुछ सीखना है। " नेपाली प्रधानमंत्री सुशील कोइराला ने भारत के लिए कलाम के वैज्ञानिक योगदानों को याद किया। "नेपाल ने एक अच्छा दोस्त खो दिया है और मैंने एक सम्मानित और आदर्श व्यक्तित्व को खो दिया है। "पाकिस्तान के राष्ट्रपति, ममनून हुसैन और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने पूर्व राष्ट्रपति के निधन पर उनके प्रति दु: ख, शोक व संवेदना व्यक्त की। श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरिसेना ने कहा, "कलाम दृढ़ विश्वास और अदम्य भावना के आदमी थे। मैंने उन्हें दुनिया के एक उत्कृष्ट राजनेता के रूप में देखा था। उनकी मौत भारत के लिए, बल्कि पूरी दुनिया के लिए अपूरणीय क्षति है। "इंडोनेशियाई राष्ट्रपति सुसीलो बम्बनग युधोयोनो, मलेशिया के प्रधानमंत्री नजीब रजाक, सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सियन लूंग , संयुक्त अरब अमीरात के राष्ट्रपति शेख खलीफा बिन जायद अल नहयान सहित अन्य अंतरराष्ट्रीय नेताओं,, और संयुक्त अरब अमीरात के प्रधानमंत्री और दुबई के शासक ने भी कलाम को श्रद्धांजलि अर्पित की। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने भारत सरकार, भारत के सभी लोगों के लिए और मृतक नेता ले प्रियजनों के लिए अपनी गंभीर संवेदना व्यक्त की और अपनी सहानुभूति और समर्थन से अवगत कराते हुए कहा, "कलाम को हमारे देशों के बीच लगातार मैत्रीपूर्ण संबंधों के एक प्रतिपादक के रूप में याद किया जाएगा, उन्होंने भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा को सुनिश्चित करने में सामाजिक, आर्थिक, वैज्ञानिक और तकनीकी प्रगति के लिए व्यक्तिगत योगदान दिया। उन्होंने पारस्परिक रूप से लाभप्रद रूसी-भारतीय सहयोग जोड़ने के लिए बहुत कुछ किया। "संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा," अमेरिकी लोगों की ओर से, मैं पूर्व भारतीय राष्ट्रपति ए॰पी॰जे॰ अब्दुल कलाम के निधन पर भारत के लोगों के लिए अपनी गहरी संवेदना का विस्तार करना चाहता हूँ। एक वैज्ञानिक और राजनेता, कलाम ने अपनी विनम्रता से घर में और विदेशों में सम्मान कमाया और भारत के सबसे महान नेताओं में से एक बने। भारत-अमेरिका के मजबूत संबंधों के लिए, डा कलाम ने सदा वकालत की। 1962 में संयुक्त राज्य अमेरिका की यात्रा के दौरान नासा के साथ अंतरिक्ष सहयोग को गहरा करने के लिए काम किया।
कलाम की मृत्यु पर शोक व्यक्त करते हुए किस सरकार ने श्रद्धांजलि में 1000 मक्खन के दीपक भेंट किए थे?
{ "text": [ "भूटान सरकार" ], "answer_start": [ 592 ] }
Which government had presented 1000 butter lamps as a tribute while mourning the death of Kalam?
"The Dalai Lama expressed his condolences and prayers and called Kalam's death" an irreparable loss ", expressed his grief. He also said," Over the years, I got a chance to interact with Kalam on many occasions.He was not only a great scientist, educationist and politician, but he was a real gentleman, and I have always praised his simplicity and humility.I enjoyed our discussions on a wide range of subjects of general interests, but was mainly contemplated between us with science, spirituality and education."South Asian leaders expressed their condolences and appreciated the late politician. The Bhutan government ordered the flag of the country to hoist the country at half a height to mourn the death of Kalam, and presented 1000 butter lamps in tribute.Bhutan's Prime Minister Shering Tobge expressed his deep grief to Kalam, saying, "He was a great leader whom all praised, especially the youth of the youth of India, who were called the President of the people."Bangladesh's Prime Minister Sheikh Hasina explained him, saying," A great politician is a conjunction of the inspiration for the administered scientist and a source of inspiration for the younger generation of South Asia "he also described Kalam's death" beyond irreparable damage to India."He also said that we have suffered a deep setback on the death of India's most famous son, former President. APJ Abdul Kalam was one of the greatest knowledge of his time. He was also very honored in Bangladesh.They would always be remembered by all for their invaluable contribution to India's growth in the field of science and technology. They were the source of inspiration for the younger generation of South Asia who used to give wings to their dreams. ”Bangladesh Nationalist Party"As an nuclear scientist, he dedicated himself to the welfare of the people." Afghanistan President Ashraf Ghani, told Kalam, "described as an inspirational figure for millions of people"."We have to learn a lot from our lives." Nepali Prime Minister Sushil Koirala remembered Kalam's scientific contributions for India."Nepal has lost a good friend and I have lost a respected and ideal personality." Mamnoon Hussain and Pakistan Prime Minister Nawaz Sharif expressed grief, grief and condolences to the former President's deathof.Sri Lankan President Maitripala Sirisena said, "Kalam was a man of conviction and indomitable spirit. I saw him as an excellent politician in the world. His death is an irreparable loss for India, but for the whole world." Indonesian PresidentSusil Bambang Yudhoyono, Malaysia Prime Minister Najeeb Razak, Singapore Prime Minister Li Sian Loong, United Arab Emirate President Sheikh Khalifa bin Zayed Al Nahayan and other international leaders, and the United Arab Emirates Prime Minister and the ruler of Dubai also paid homage to Kalamof.Russian President Vladimir Putin expressed his serious condolences to all the people of the Government of India, for all the people of India and the deceased leaders and informed about their sympathy and support, saying, "Kalam is a composer of constant friendly relations between our countriesAs remembered, he made a personal contribution to social, economic, scientific and technological progress in ensuring India's national security. He did a lot to add mutually beneficial Russian-Indian cooperation. "The United StatesPresident Barack Obama said, "On behalf of American people, I want to expand my deep condolences to the people of India on the death of former Indian President APJ Abdul Kalam. A scientist and politician, Kalam,Earned honor at home and abroad with his humility and became one of the greatest leaders of India. For strong relations between Indo-US, Dr. Kalam always advocated. Space with NASA during a visit to United States in 1962Worked to deepen cooperation.
{ "answer_start": [ 592 ], "text": [ "The Government of Bhutan" ] }
3
"दलाई लामा ने अपनी संवेदना और प्रार्थना व्यक्त की और कलाम की मौत को "एक अपूरणीय क्षति" बुला, अपना दुख व्यक्त किया। उन्होंने यह भी कहा, "अनेक वर्षों में, मुझे कई अवसरों पर कलाम के साथ बातचीत करने का मौका मिला। वह एक महान वैज्ञानिक, शिक्षाविद और राजनेता ही नहीं, बल्कि वे एक वास्तविक सज्जन थे, और हमेशा मैंने उनकी सादगी और विनम्रता की प्रशंसा की है। मैंने सामान्य हितों के विषयों की एक विस्तृत श्रृंखला पर हमारी चर्चाओं का आनंद लिया, लेकिन विज्ञान, अध्यात्म और शिक्षा के साथ मुख्य रूप से हमारे बीच चिंतन किया जाता था। " दक्षिण एशियाई नेताओं ने अपनी संवेदना व्यक्त की और दिवंगत राजनेता की सराहना की। भूटान सरकार ने कलाम की मौत के शोक के लिए देश के झंडे को आधी ऊंचाई पर फहराने के लिए आदेश दिया, और श्रद्धांजलि में 1000 मक्खन के दीपक की भेंट किए। भूटान के प्रधानमंत्री शेरिंग तोबगे ने कलाम के प्रति अपना गहरा दुख व्यक्त करते हुए कहा, "वे एक महान नेता थे जिनकी सभी ने प्रशंसा की विशेषकर भारत के युवाओं के वे प्रशंसनीय नेता थे जिन्हें वे जनता का राष्ट्रपति बुलाते थे। "बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने उनकी व्याख्या करते हुए कहा, "एक महान राजनेता प्रशंसित वैज्ञानिक और दक्षिण एशिया के युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणा स्रोत के संयोग" उन्होंने कलाम की मृत्यु को "भारत के लिए अपूरणीय क्षति से भी परे बताया। " उन्होंने यह भी कहा कि भारत के सबसे प्रसिद्ध बेटे, पूर्व राष्ट्रपति के निधन पर हमें गहरा झटका लगा है। ए॰पी॰जे॰ अब्दुल कलाम अपने समय के सबसे महान ज्ञानियों में से एक थे। वह बांग्लादेश में भी बहुत सम्मानित थे। उनकी विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत की वृद्धि करने के लिए अमूल्य योगदान के लिए वे सभी के द्वारा हमेशा याद किये जायेंगे। वे दक्षिण एशिया की युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणा का स्रोत थे जो उनके सपनों को पंख देते थे। " बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी की प्रमुख खालिदा जिया ने कहा, "एक परमाणु वैज्ञानिक के रूप में, उन्होंने लोगों के कल्याण में स्वयं को समर्पित किया। "अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी, ने कलाम को, "लाखों लोगों के लिए एक प्रेरणादायक शख्सियत बताया" ये नोट करते हुए "हमे अपने जीवन से बहुत कुछ सीखना है। " नेपाली प्रधानमंत्री सुशील कोइराला ने भारत के लिए कलाम के वैज्ञानिक योगदानों को याद किया। "नेपाल ने एक अच्छा दोस्त खो दिया है और मैंने एक सम्मानित और आदर्श व्यक्तित्व को खो दिया है। "पाकिस्तान के राष्ट्रपति, ममनून हुसैन और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने पूर्व राष्ट्रपति के निधन पर उनके प्रति दु: ख, शोक व संवेदना व्यक्त की। श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरिसेना ने कहा, "कलाम दृढ़ विश्वास और अदम्य भावना के आदमी थे। मैंने उन्हें दुनिया के एक उत्कृष्ट राजनेता के रूप में देखा था। उनकी मौत भारत के लिए, बल्कि पूरी दुनिया के लिए अपूरणीय क्षति है। "इंडोनेशियाई राष्ट्रपति सुसीलो बम्बनग युधोयोनो, मलेशिया के प्रधानमंत्री नजीब रजाक, सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सियन लूंग , संयुक्त अरब अमीरात के राष्ट्रपति शेख खलीफा बिन जायद अल नहयान सहित अन्य अंतरराष्ट्रीय नेताओं,, और संयुक्त अरब अमीरात के प्रधानमंत्री और दुबई के शासक ने भी कलाम को श्रद्धांजलि अर्पित की। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने भारत सरकार, भारत के सभी लोगों के लिए और मृतक नेता ले प्रियजनों के लिए अपनी गंभीर संवेदना व्यक्त की और अपनी सहानुभूति और समर्थन से अवगत कराते हुए कहा, "कलाम को हमारे देशों के बीच लगातार मैत्रीपूर्ण संबंधों के एक प्रतिपादक के रूप में याद किया जाएगा, उन्होंने भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा को सुनिश्चित करने में सामाजिक, आर्थिक, वैज्ञानिक और तकनीकी प्रगति के लिए व्यक्तिगत योगदान दिया। उन्होंने पारस्परिक रूप से लाभप्रद रूसी-भारतीय सहयोग जोड़ने के लिए बहुत कुछ किया। "संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा," अमेरिकी लोगों की ओर से, मैं पूर्व भारतीय राष्ट्रपति ए॰पी॰जे॰ अब्दुल कलाम के निधन पर भारत के लोगों के लिए अपनी गहरी संवेदना का विस्तार करना चाहता हूँ। एक वैज्ञानिक और राजनेता, कलाम ने अपनी विनम्रता से घर में और विदेशों में सम्मान कमाया और भारत के सबसे महान नेताओं में से एक बने। भारत-अमेरिका के मजबूत संबंधों के लिए, डा कलाम ने सदा वकालत की। 1962 में संयुक्त राज्य अमेरिका की यात्रा के दौरान नासा के साथ अंतरिक्ष सहयोग को गहरा करने के लिए काम किया।
जब ए.पी.जे. अब्दुल कलाम की मृत्यु हुई थी उस समय श्रीलंका के राष्ट्रपति कौन थे ?
{ "text": [ "मैत्रिपाला सिरिसेना" ], "answer_start": [ 2263 ] }
Who was the President of Sri Lanka when A.P.J. Abdul Kalam died?
"The Dalai Lama expressed his condolences and prayers and called Kalam's death" an irreparable loss ", expressed his grief. He also said," Over the years, I got a chance to interact with Kalam on many occasions.He was not only a great scientist, educationist and politician, but he was a real gentleman, and I have always praised his simplicity and humility.I enjoyed our discussions on a wide range of subjects of general interests, but was mainly contemplated between us with science, spirituality and education."South Asian leaders expressed their condolences and appreciated the late politician. The Bhutan government ordered the flag of the country to hoist the country at half a height to mourn the death of Kalam, and presented 1000 butter lamps in tribute.Bhutan's Prime Minister Shering Tobge expressed his deep grief to Kalam, saying, "He was a great leader whom all praised, especially the youth of the youth of India, who were called the President of the people."Bangladesh's Prime Minister Sheikh Hasina explained him, saying," A great politician is a conjunction of the inspiration for the administered scientist and a source of inspiration for the younger generation of South Asia "he also described Kalam's death" beyond irreparable damage to India."He also said that we have suffered a deep setback on the death of India's most famous son, former President. APJ Abdul Kalam was one of the greatest knowledge of his time. He was also very honored in Bangladesh.They would always be remembered by all for their invaluable contribution to India's growth in the field of science and technology. They were the source of inspiration for the younger generation of South Asia who used to give wings to their dreams. ”Bangladesh Nationalist Party"As an nuclear scientist, he dedicated himself to the welfare of the people." Afghanistan President Ashraf Ghani, told Kalam, "described as an inspirational figure for millions of people"."We have to learn a lot from our lives." Nepali Prime Minister Sushil Koirala remembered Kalam's scientific contributions for India."Nepal has lost a good friend and I have lost a respected and ideal personality." Mamnoon Hussain and Pakistan Prime Minister Nawaz Sharif expressed grief, grief and condolences to the former President's deathof.Sri Lankan President Maitripala Sirisena said, "Kalam was a man of conviction and indomitable spirit. I saw him as an excellent politician in the world. His death is an irreparable loss for India, but for the whole world." Indonesian PresidentSusil Bambang Yudhoyono, Malaysia Prime Minister Najeeb Razak, Singapore Prime Minister Li Sian Loong, United Arab Emirate President Sheikh Khalifa bin Zayed Al Nahayan and other international leaders, and the United Arab Emirates Prime Minister and the ruler of Dubai also paid homage to Kalamof.Russian President Vladimir Putin expressed his serious condolences to all the people of the Government of India, for all the people of India and the deceased leaders and informed about their sympathy and support, saying, "Kalam is a composer of constant friendly relations between our countriesAs remembered, he made a personal contribution to social, economic, scientific and technological progress in ensuring India's national security. He did a lot to add mutually beneficial Russian-Indian cooperation. "The United StatesPresident Barack Obama said, "On behalf of American people, I want to expand my deep condolences to the people of India on the death of former Indian President APJ Abdul Kalam. A scientist and politician, Kalam,Earned honor at home and abroad with his humility and became one of the greatest leaders of India. For strong relations between Indo-US, Dr. Kalam always advocated. Space with NASA during a visit to United States in 1962Worked to deepen cooperation.
{ "answer_start": [ 2263 ], "text": [ "Maithripala Sirisena" ] }
4
(धोंडू पन्त) नाना साहब ने सन् 1824 में वेणुग्राम निवासी माधवनारायण राव के घर जन्म लिया था। इनके पिता पेशवा बाजीराव द्वितीय के सगोत्र भाई थे। पेशवा ने बालक नानाराव को अपना दत्तक पुत्र स्वीकार किया और उनकी शिक्षा दीक्षा का यथेष्ट प्रबन्ध किया। उन्हें हाथी घोड़े की सवारी, तलवार व बन्दूक चलाने की विधि सिखाई गई और कई भाषाओं का अच्छा ज्ञान भी कराया गया। जनवरी 28 सन् 1851 को पेशवा का स्वर्गवास हो गया। नानाराव ने बड़ी शान के साथ पेशवा का अन्तिम संस्कार किया। दिवंगत पेशवा के उत्तराधिकार का प्रश्न उठा। कम्पनी के शासन ने बिठूर स्थित कमिश्नर को यह आदेश दिया कि वह नानाराव को यह सूचना दे कि शासन ने उन्हें केवल पेशवाई धन सम्पत्ति का ही उत्तराधिकारी माना है न कि पेशवा की उपाधि का या उससे संलग्न राजनैतिक व व्यक्तिगत सुविधाओं का। एतदर्थ पेशवा की गद्दी प्राप्त करने के सम्बन्ध में व कोई समारोह या प्रदर्शन न करें। परन्तु महत्वाकांक्षी नानाराव ने सारी समृपत्ति को अपने हाथ में लेकर पेशवा के शस्त्रागार पर भी अधिकार कर लिया। थोड़े ही दिनों में नानाराव ने पेशवा की सभी उपाधियों को धारण कर लिया। तुरन्त ही उन्होंने ब्रिटिश सरकार को आवेदनपत्र दिया और पेशवाई पेंशन के चालू कराने की न्यायोचित माँग की। साथ ही उन्होंने अपने वकील के साथ खरीता आदि भी भेजा जो कानपुर के कलेक्टर ने वापस कर दिया तथा उन्हें सूचित कराया कि सरकार उनकी पेशवाई उपाधियों को स्वीकार नहीं करती। नानाराव धुन्धूपन्त को इससे बड़ा कष्ट हुआ क्योंकि उन्हें अनेक आश्रितों का भरण पोषण करना था। नाना साहब ने पेंशन पाने के लिए लार्ड डलहौजी से लिखापढ़ी की, किन्तु जब उसने भी इन्कार कर दिया तो उन्होंने अजीमुल्ला खाँ को अपना वकील नियुक्त कर महारानी विक्टोरिया के पास भेजा। अजीमुल्ला ने अनेक प्रयत्न किए पर असफल रहे। लौटते समय उन्होंने फ्रांस, इटली तथा रूस आदि की यात्रा की। वापस आकर अजीमुल्ला ने नाना साहब को अपनी विफलता, अंग्रेजों की वास्तविक परिस्थिति तथा यूरोप के स्वाधीनता आंदोलनों का ज्ञान कराया। नानाराव धून्धूपन्त को अंग्रेज सरकार के रुख से बड़ा कष्ट हुआ। वे चुप बैठनेवाले न थे। उन्होंने इसी समय तीर्थयात्रा प्रारम्भ की।
नाना साहेब कालपी में किस शख्स से मिले थे?
{ "text": [ "" ], "answer_start": [ null ] }
Which person did Nana Saheb meet in Kalpi?
(Dhondu Pant) Nana Saheb was born in 1824 to the house of Madhavanarayan Rao, a resident of Venugram.His father was the sagotra brother of Peshwa Bajirao II.The Peshwa accepted the child Nanarao as his adopted son and provided his education initiation.He was taught the method of riding elephant horse, sword and gun and also made good knowledge of many languages.On January 28, 1851, the Peshwa died.Nanarao performed the last rites of the Peshwa with great glory.The question of succession of the late Peshwa raised.The company's rule ordered the commissioner in Bithoor to inform Nanarao that the government has considered him only the successor of the wealth wealth and not the title of Peshwa or of the political and personal facilities attached.Do not perform or perform any ceremony or performance in relation to obtaining the throne of the Peshwa.But the ambitious Nanarao took all the cotton in his hand and took control of the Peshwa's arsenal.In a few days, Nanarao took all the titles of the Peshwa.Immediately he submitted the application to the British government and demanded a fair demand for the commissioning of Peshwai pension.At the same time, he also sent him to buy with his lawyer, which was returned by the Collector of Kanpur and informed him that the government does not accept his profession.Nanarao Dhundhupant suffered a lot because he had to take care of many dependents.Nana Saheb wrote to Lord Dalhousie to get pension, but when he also refused, he appointed Azimullah Khan as his lawyer and sent it to Queen Victoria.Azimullah made many efforts but failed.While returning, he traveled to France, Italy and Russia etc.After coming back, Azimullah made Nana Saheb aware of his failure, the real situation of the British and the freedom movements of Europe.Nanarao Dhundhupant suffered a lot due to the attitude of the British government.They were not going to sit silent.He started pilgrimage at this time.
{ "answer_start": [ null ], "text": [ "" ] }
5
(धोंडू पन्त) नाना साहब ने सन् 1824 में वेणुग्राम निवासी माधवनारायण राव के घर जन्म लिया था। इनके पिता पेशवा बाजीराव द्वितीय के सगोत्र भाई थे। पेशवा ने बालक नानाराव को अपना दत्तक पुत्र स्वीकार किया और उनकी शिक्षा दीक्षा का यथेष्ट प्रबन्ध किया। उन्हें हाथी घोड़े की सवारी, तलवार व बन्दूक चलाने की विधि सिखाई गई और कई भाषाओं का अच्छा ज्ञान भी कराया गया। जनवरी 28 सन् 1851 को पेशवा का स्वर्गवास हो गया। नानाराव ने बड़ी शान के साथ पेशवा का अन्तिम संस्कार किया। दिवंगत पेशवा के उत्तराधिकार का प्रश्न उठा। कम्पनी के शासन ने बिठूर स्थित कमिश्नर को यह आदेश दिया कि वह नानाराव को यह सूचना दे कि शासन ने उन्हें केवल पेशवाई धन सम्पत्ति का ही उत्तराधिकारी माना है न कि पेशवा की उपाधि का या उससे संलग्न राजनैतिक व व्यक्तिगत सुविधाओं का। एतदर्थ पेशवा की गद्दी प्राप्त करने के सम्बन्ध में व कोई समारोह या प्रदर्शन न करें। परन्तु महत्वाकांक्षी नानाराव ने सारी समृपत्ति को अपने हाथ में लेकर पेशवा के शस्त्रागार पर भी अधिकार कर लिया। थोड़े ही दिनों में नानाराव ने पेशवा की सभी उपाधियों को धारण कर लिया। तुरन्त ही उन्होंने ब्रिटिश सरकार को आवेदनपत्र दिया और पेशवाई पेंशन के चालू कराने की न्यायोचित माँग की। साथ ही उन्होंने अपने वकील के साथ खरीता आदि भी भेजा जो कानपुर के कलेक्टर ने वापस कर दिया तथा उन्हें सूचित कराया कि सरकार उनकी पेशवाई उपाधियों को स्वीकार नहीं करती। नानाराव धुन्धूपन्त को इससे बड़ा कष्ट हुआ क्योंकि उन्हें अनेक आश्रितों का भरण पोषण करना था। नाना साहब ने पेंशन पाने के लिए लार्ड डलहौजी से लिखापढ़ी की, किन्तु जब उसने भी इन्कार कर दिया तो उन्होंने अजीमुल्ला खाँ को अपना वकील नियुक्त कर महारानी विक्टोरिया के पास भेजा। अजीमुल्ला ने अनेक प्रयत्न किए पर असफल रहे। लौटते समय उन्होंने फ्रांस, इटली तथा रूस आदि की यात्रा की। वापस आकर अजीमुल्ला ने नाना साहब को अपनी विफलता, अंग्रेजों की वास्तविक परिस्थिति तथा यूरोप के स्वाधीनता आंदोलनों का ज्ञान कराया। नानाराव धून्धूपन्त को अंग्रेज सरकार के रुख से बड़ा कष्ट हुआ। वे चुप बैठनेवाले न थे। उन्होंने इसी समय तीर्थयात्रा प्रारम्भ की।
नाना साहब के पिता कौन थे ?
{ "text": [ "माधवनारायण राव" ], "answer_start": [ 56 ] }
Who was the father of Nana Sahib?
(Dhondu Pant) Nana Saheb was born in 1824 to the house of Madhavanarayan Rao, a resident of Venugram.His father was the sagotra brother of Peshwa Bajirao II.The Peshwa accepted the child Nanarao as his adopted son and provided his education initiation.He was taught the method of riding elephant horse, sword and gun and also made good knowledge of many languages.On January 28, 1851, the Peshwa died.Nanarao performed the last rites of the Peshwa with great glory.The question of succession of the late Peshwa raised.The company's rule ordered the commissioner in Bithoor to inform Nanarao that the government has considered him only the successor of the wealth wealth and not the title of Peshwa or of the political and personal facilities attached.Do not perform or perform any ceremony or performance in relation to obtaining the throne of the Peshwa.But the ambitious Nanarao took all the cotton in his hand and took control of the Peshwa's arsenal.In a few days, Nanarao took all the titles of the Peshwa.Immediately he submitted the application to the British government and demanded a fair demand for the commissioning of Peshwai pension.At the same time, he also sent him to buy with his lawyer, which was returned by the Collector of Kanpur and informed him that the government does not accept his profession.Nanarao Dhundhupant suffered a lot because he had to take care of many dependents.Nana Saheb wrote to Lord Dalhousie to get pension, but when he also refused, he appointed Azimullah Khan as his lawyer and sent it to Queen Victoria.Azimullah made many efforts but failed.While returning, he traveled to France, Italy and Russia etc.After coming back, Azimullah made Nana Saheb aware of his failure, the real situation of the British and the freedom movements of Europe.Nanarao Dhundhupant suffered a lot due to the attitude of the British government.They were not going to sit silent.He started pilgrimage at this time.
{ "answer_start": [ 56 ], "text": [ "Madhavanarayana Rao" ] }
6
(धोंडू पन्त) नाना साहब ने सन् 1824 में वेणुग्राम निवासी माधवनारायण राव के घर जन्म लिया था। इनके पिता पेशवा बाजीराव द्वितीय के सगोत्र भाई थे। पेशवा ने बालक नानाराव को अपना दत्तक पुत्र स्वीकार किया और उनकी शिक्षा दीक्षा का यथेष्ट प्रबन्ध किया। उन्हें हाथी घोड़े की सवारी, तलवार व बन्दूक चलाने की विधि सिखाई गई और कई भाषाओं का अच्छा ज्ञान भी कराया गया। जनवरी 28 सन् 1851 को पेशवा का स्वर्गवास हो गया। नानाराव ने बड़ी शान के साथ पेशवा का अन्तिम संस्कार किया। दिवंगत पेशवा के उत्तराधिकार का प्रश्न उठा। कम्पनी के शासन ने बिठूर स्थित कमिश्नर को यह आदेश दिया कि वह नानाराव को यह सूचना दे कि शासन ने उन्हें केवल पेशवाई धन सम्पत्ति का ही उत्तराधिकारी माना है न कि पेशवा की उपाधि का या उससे संलग्न राजनैतिक व व्यक्तिगत सुविधाओं का। एतदर्थ पेशवा की गद्दी प्राप्त करने के सम्बन्ध में व कोई समारोह या प्रदर्शन न करें। परन्तु महत्वाकांक्षी नानाराव ने सारी समृपत्ति को अपने हाथ में लेकर पेशवा के शस्त्रागार पर भी अधिकार कर लिया। थोड़े ही दिनों में नानाराव ने पेशवा की सभी उपाधियों को धारण कर लिया। तुरन्त ही उन्होंने ब्रिटिश सरकार को आवेदनपत्र दिया और पेशवाई पेंशन के चालू कराने की न्यायोचित माँग की। साथ ही उन्होंने अपने वकील के साथ खरीता आदि भी भेजा जो कानपुर के कलेक्टर ने वापस कर दिया तथा उन्हें सूचित कराया कि सरकार उनकी पेशवाई उपाधियों को स्वीकार नहीं करती। नानाराव धुन्धूपन्त को इससे बड़ा कष्ट हुआ क्योंकि उन्हें अनेक आश्रितों का भरण पोषण करना था। नाना साहब ने पेंशन पाने के लिए लार्ड डलहौजी से लिखापढ़ी की, किन्तु जब उसने भी इन्कार कर दिया तो उन्होंने अजीमुल्ला खाँ को अपना वकील नियुक्त कर महारानी विक्टोरिया के पास भेजा। अजीमुल्ला ने अनेक प्रयत्न किए पर असफल रहे। लौटते समय उन्होंने फ्रांस, इटली तथा रूस आदि की यात्रा की। वापस आकर अजीमुल्ला ने नाना साहब को अपनी विफलता, अंग्रेजों की वास्तविक परिस्थिति तथा यूरोप के स्वाधीनता आंदोलनों का ज्ञान कराया। नानाराव धून्धूपन्त को अंग्रेज सरकार के रुख से बड़ा कष्ट हुआ। वे चुप बैठनेवाले न थे। उन्होंने इसी समय तीर्थयात्रा प्रारम्भ की।
बाजीराव द्वितीय की मृत्यु कब हुई थी ?
{ "text": [ "जनवरी 28 सन् 1851" ], "answer_start": [ 346 ] }
When did Bajirao II die?
(Dhondu Pant) Nana Saheb was born in 1824 to the house of Madhavanarayan Rao, a resident of Venugram.His father was the sagotra brother of Peshwa Bajirao II.The Peshwa accepted the child Nanarao as his adopted son and provided his education initiation.He was taught the method of riding elephant horse, sword and gun and also made good knowledge of many languages.On January 28, 1851, the Peshwa died.Nanarao performed the last rites of the Peshwa with great glory.The question of succession of the late Peshwa raised.The company's rule ordered the commissioner in Bithoor to inform Nanarao that the government has considered him only the successor of the wealth wealth and not the title of Peshwa or of the political and personal facilities attached.Do not perform or perform any ceremony or performance in relation to obtaining the throne of the Peshwa.But the ambitious Nanarao took all the cotton in his hand and took control of the Peshwa's arsenal.In a few days, Nanarao took all the titles of the Peshwa.Immediately he submitted the application to the British government and demanded a fair demand for the commissioning of Peshwai pension.At the same time, he also sent him to buy with his lawyer, which was returned by the Collector of Kanpur and informed him that the government does not accept his profession.Nanarao Dhundhupant suffered a lot because he had to take care of many dependents.Nana Saheb wrote to Lord Dalhousie to get pension, but when he also refused, he appointed Azimullah Khan as his lawyer and sent it to Queen Victoria.Azimullah made many efforts but failed.While returning, he traveled to France, Italy and Russia etc.After coming back, Azimullah made Nana Saheb aware of his failure, the real situation of the British and the freedom movements of Europe.Nanarao Dhundhupant suffered a lot due to the attitude of the British government.They were not going to sit silent.He started pilgrimage at this time.
{ "answer_start": [ 346 ], "text": [ "January 28, 1851" ] }
7
(धोंडू पन्त) नाना साहब ने सन् 1824 में वेणुग्राम निवासी माधवनारायण राव के घर जन्म लिया था। इनके पिता पेशवा बाजीराव द्वितीय के सगोत्र भाई थे। पेशवा ने बालक नानाराव को अपना दत्तक पुत्र स्वीकार किया और उनकी शिक्षा दीक्षा का यथेष्ट प्रबन्ध किया। उन्हें हाथी घोड़े की सवारी, तलवार व बन्दूक चलाने की विधि सिखाई गई और कई भाषाओं का अच्छा ज्ञान भी कराया गया। जनवरी 28 सन् 1851 को पेशवा का स्वर्गवास हो गया। नानाराव ने बड़ी शान के साथ पेशवा का अन्तिम संस्कार किया। दिवंगत पेशवा के उत्तराधिकार का प्रश्न उठा। कम्पनी के शासन ने बिठूर स्थित कमिश्नर को यह आदेश दिया कि वह नानाराव को यह सूचना दे कि शासन ने उन्हें केवल पेशवाई धन सम्पत्ति का ही उत्तराधिकारी माना है न कि पेशवा की उपाधि का या उससे संलग्न राजनैतिक व व्यक्तिगत सुविधाओं का। एतदर्थ पेशवा की गद्दी प्राप्त करने के सम्बन्ध में व कोई समारोह या प्रदर्शन न करें। परन्तु महत्वाकांक्षी नानाराव ने सारी समृपत्ति को अपने हाथ में लेकर पेशवा के शस्त्रागार पर भी अधिकार कर लिया। थोड़े ही दिनों में नानाराव ने पेशवा की सभी उपाधियों को धारण कर लिया। तुरन्त ही उन्होंने ब्रिटिश सरकार को आवेदनपत्र दिया और पेशवाई पेंशन के चालू कराने की न्यायोचित माँग की। साथ ही उन्होंने अपने वकील के साथ खरीता आदि भी भेजा जो कानपुर के कलेक्टर ने वापस कर दिया तथा उन्हें सूचित कराया कि सरकार उनकी पेशवाई उपाधियों को स्वीकार नहीं करती। नानाराव धुन्धूपन्त को इससे बड़ा कष्ट हुआ क्योंकि उन्हें अनेक आश्रितों का भरण पोषण करना था। नाना साहब ने पेंशन पाने के लिए लार्ड डलहौजी से लिखापढ़ी की, किन्तु जब उसने भी इन्कार कर दिया तो उन्होंने अजीमुल्ला खाँ को अपना वकील नियुक्त कर महारानी विक्टोरिया के पास भेजा। अजीमुल्ला ने अनेक प्रयत्न किए पर असफल रहे। लौटते समय उन्होंने फ्रांस, इटली तथा रूस आदि की यात्रा की। वापस आकर अजीमुल्ला ने नाना साहब को अपनी विफलता, अंग्रेजों की वास्तविक परिस्थिति तथा यूरोप के स्वाधीनता आंदोलनों का ज्ञान कराया। नानाराव धून्धूपन्त को अंग्रेज सरकार के रुख से बड़ा कष्ट हुआ। वे चुप बैठनेवाले न थे। उन्होंने इसी समय तीर्थयात्रा प्रारम्भ की।
नाना साहब कालपी, दिल्ली और लखनऊ किस वर्ष गए थे?
{ "text": [ "" ], "answer_start": [ null ] }
In which year did Nana Sahib visit Kalpi, Delhi and Lucknow?
(Dhondu Pant) Nana Saheb was born in 1824 to the house of Madhavanarayan Rao, a resident of Venugram.His father was the sagotra brother of Peshwa Bajirao II.The Peshwa accepted the child Nanarao as his adopted son and provided his education initiation.He was taught the method of riding elephant horse, sword and gun and also made good knowledge of many languages.On January 28, 1851, the Peshwa died.Nanarao performed the last rites of the Peshwa with great glory.The question of succession of the late Peshwa raised.The company's rule ordered the commissioner in Bithoor to inform Nanarao that the government has considered him only the successor of the wealth wealth and not the title of Peshwa or of the political and personal facilities attached.Do not perform or perform any ceremony or performance in relation to obtaining the throne of the Peshwa.But the ambitious Nanarao took all the cotton in his hand and took control of the Peshwa's arsenal.In a few days, Nanarao took all the titles of the Peshwa.Immediately he submitted the application to the British government and demanded a fair demand for the commissioning of Peshwai pension.At the same time, he also sent him to buy with his lawyer, which was returned by the Collector of Kanpur and informed him that the government does not accept his profession.Nanarao Dhundhupant suffered a lot because he had to take care of many dependents.Nana Saheb wrote to Lord Dalhousie to get pension, but when he also refused, he appointed Azimullah Khan as his lawyer and sent it to Queen Victoria.Azimullah made many efforts but failed.While returning, he traveled to France, Italy and Russia etc.After coming back, Azimullah made Nana Saheb aware of his failure, the real situation of the British and the freedom movements of Europe.Nanarao Dhundhupant suffered a lot due to the attitude of the British government.They were not going to sit silent.He started pilgrimage at this time.
{ "answer_start": [ null ], "text": [ "" ] }
8
(धोंडू पन्त) नाना साहब ने सन् 1824 में वेणुग्राम निवासी माधवनारायण राव के घर जन्म लिया था। इनके पिता पेशवा बाजीराव द्वितीय के सगोत्र भाई थे। पेशवा ने बालक नानाराव को अपना दत्तक पुत्र स्वीकार किया और उनकी शिक्षा दीक्षा का यथेष्ट प्रबन्ध किया। उन्हें हाथी घोड़े की सवारी, तलवार व बन्दूक चलाने की विधि सिखाई गई और कई भाषाओं का अच्छा ज्ञान भी कराया गया। जनवरी 28 सन् 1851 को पेशवा का स्वर्गवास हो गया। नानाराव ने बड़ी शान के साथ पेशवा का अन्तिम संस्कार किया। दिवंगत पेशवा के उत्तराधिकार का प्रश्न उठा। कम्पनी के शासन ने बिठूर स्थित कमिश्नर को यह आदेश दिया कि वह नानाराव को यह सूचना दे कि शासन ने उन्हें केवल पेशवाई धन सम्पत्ति का ही उत्तराधिकारी माना है न कि पेशवा की उपाधि का या उससे संलग्न राजनैतिक व व्यक्तिगत सुविधाओं का। एतदर्थ पेशवा की गद्दी प्राप्त करने के सम्बन्ध में व कोई समारोह या प्रदर्शन न करें। परन्तु महत्वाकांक्षी नानाराव ने सारी समृपत्ति को अपने हाथ में लेकर पेशवा के शस्त्रागार पर भी अधिकार कर लिया। थोड़े ही दिनों में नानाराव ने पेशवा की सभी उपाधियों को धारण कर लिया। तुरन्त ही उन्होंने ब्रिटिश सरकार को आवेदनपत्र दिया और पेशवाई पेंशन के चालू कराने की न्यायोचित माँग की। साथ ही उन्होंने अपने वकील के साथ खरीता आदि भी भेजा जो कानपुर के कलेक्टर ने वापस कर दिया तथा उन्हें सूचित कराया कि सरकार उनकी पेशवाई उपाधियों को स्वीकार नहीं करती। नानाराव धुन्धूपन्त को इससे बड़ा कष्ट हुआ क्योंकि उन्हें अनेक आश्रितों का भरण पोषण करना था। नाना साहब ने पेंशन पाने के लिए लार्ड डलहौजी से लिखापढ़ी की, किन्तु जब उसने भी इन्कार कर दिया तो उन्होंने अजीमुल्ला खाँ को अपना वकील नियुक्त कर महारानी विक्टोरिया के पास भेजा। अजीमुल्ला ने अनेक प्रयत्न किए पर असफल रहे। लौटते समय उन्होंने फ्रांस, इटली तथा रूस आदि की यात्रा की। वापस आकर अजीमुल्ला ने नाना साहब को अपनी विफलता, अंग्रेजों की वास्तविक परिस्थिति तथा यूरोप के स्वाधीनता आंदोलनों का ज्ञान कराया। नानाराव धून्धूपन्त को अंग्रेज सरकार के रुख से बड़ा कष्ट हुआ। वे चुप बैठनेवाले न थे। उन्होंने इसी समय तीर्थयात्रा प्रारम्भ की।
बाजीराव द्वितीय के बाद पेशवा की उपाधि किसने संभाली थी ?
{ "text": [ "नानाराव" ], "answer_start": [ 153 ] }
Who assumed the title of Peshwa after Bajirao II?
(Dhondu Pant) Nana Saheb was born in 1824 to the house of Madhavanarayan Rao, a resident of Venugram.His father was the sagotra brother of Peshwa Bajirao II.The Peshwa accepted the child Nanarao as his adopted son and provided his education initiation.He was taught the method of riding elephant horse, sword and gun and also made good knowledge of many languages.On January 28, 1851, the Peshwa died.Nanarao performed the last rites of the Peshwa with great glory.The question of succession of the late Peshwa raised.The company's rule ordered the commissioner in Bithoor to inform Nanarao that the government has considered him only the successor of the wealth wealth and not the title of Peshwa or of the political and personal facilities attached.Do not perform or perform any ceremony or performance in relation to obtaining the throne of the Peshwa.But the ambitious Nanarao took all the cotton in his hand and took control of the Peshwa's arsenal.In a few days, Nanarao took all the titles of the Peshwa.Immediately he submitted the application to the British government and demanded a fair demand for the commissioning of Peshwai pension.At the same time, he also sent him to buy with his lawyer, which was returned by the Collector of Kanpur and informed him that the government does not accept his profession.Nanarao Dhundhupant suffered a lot because he had to take care of many dependents.Nana Saheb wrote to Lord Dalhousie to get pension, but when he also refused, he appointed Azimullah Khan as his lawyer and sent it to Queen Victoria.Azimullah made many efforts but failed.While returning, he traveled to France, Italy and Russia etc.After coming back, Azimullah made Nana Saheb aware of his failure, the real situation of the British and the freedom movements of Europe.Nanarao Dhundhupant suffered a lot due to the attitude of the British government.They were not going to sit silent.He started pilgrimage at this time.
{ "answer_start": [ 153 ], "text": [ "Nanarao" ] }
9
(धोंडू पन्त) नाना साहब ने सन् 1824 में वेणुग्राम निवासी माधवनारायण राव के घर जन्म लिया था। इनके पिता पेशवा बाजीराव द्वितीय के सगोत्र भाई थे। पेशवा ने बालक नानाराव को अपना दत्तक पुत्र स्वीकार किया और उनकी शिक्षा दीक्षा का यथेष्ट प्रबन्ध किया। उन्हें हाथी घोड़े की सवारी, तलवार व बन्दूक चलाने की विधि सिखाई गई और कई भाषाओं का अच्छा ज्ञान भी कराया गया। जनवरी 28 सन् 1851 को पेशवा का स्वर्गवास हो गया। नानाराव ने बड़ी शान के साथ पेशवा का अन्तिम संस्कार किया। दिवंगत पेशवा के उत्तराधिकार का प्रश्न उठा। कम्पनी के शासन ने बिठूर स्थित कमिश्नर को यह आदेश दिया कि वह नानाराव को यह सूचना दे कि शासन ने उन्हें केवल पेशवाई धन सम्पत्ति का ही उत्तराधिकारी माना है न कि पेशवा की उपाधि का या उससे संलग्न राजनैतिक व व्यक्तिगत सुविधाओं का। एतदर्थ पेशवा की गद्दी प्राप्त करने के सम्बन्ध में व कोई समारोह या प्रदर्शन न करें। परन्तु महत्वाकांक्षी नानाराव ने सारी समृपत्ति को अपने हाथ में लेकर पेशवा के शस्त्रागार पर भी अधिकार कर लिया। थोड़े ही दिनों में नानाराव ने पेशवा की सभी उपाधियों को धारण कर लिया। तुरन्त ही उन्होंने ब्रिटिश सरकार को आवेदनपत्र दिया और पेशवाई पेंशन के चालू कराने की न्यायोचित माँग की। साथ ही उन्होंने अपने वकील के साथ खरीता आदि भी भेजा जो कानपुर के कलेक्टर ने वापस कर दिया तथा उन्हें सूचित कराया कि सरकार उनकी पेशवाई उपाधियों को स्वीकार नहीं करती। नानाराव धुन्धूपन्त को इससे बड़ा कष्ट हुआ क्योंकि उन्हें अनेक आश्रितों का भरण पोषण करना था। नाना साहब ने पेंशन पाने के लिए लार्ड डलहौजी से लिखापढ़ी की, किन्तु जब उसने भी इन्कार कर दिया तो उन्होंने अजीमुल्ला खाँ को अपना वकील नियुक्त कर महारानी विक्टोरिया के पास भेजा। अजीमुल्ला ने अनेक प्रयत्न किए पर असफल रहे। लौटते समय उन्होंने फ्रांस, इटली तथा रूस आदि की यात्रा की। वापस आकर अजीमुल्ला ने नाना साहब को अपनी विफलता, अंग्रेजों की वास्तविक परिस्थिति तथा यूरोप के स्वाधीनता आंदोलनों का ज्ञान कराया। नानाराव धून्धूपन्त को अंग्रेज सरकार के रुख से बड़ा कष्ट हुआ। वे चुप बैठनेवाले न थे। उन्होंने इसी समय तीर्थयात्रा प्रारम्भ की।
नाना साहब का जन्म किस वर्ष हुआ था ?
{ "text": [ "1824" ], "answer_start": [ 30 ] }
In which year was Nana Sahib born?
(Dhondu Pant) Nana Saheb was born in 1824 to the house of Madhavanarayan Rao, a resident of Venugram.His father was the sagotra brother of Peshwa Bajirao II.The Peshwa accepted the child Nanarao as his adopted son and provided his education initiation.He was taught the method of riding elephant horse, sword and gun and also made good knowledge of many languages.On January 28, 1851, the Peshwa died.Nanarao performed the last rites of the Peshwa with great glory.The question of succession of the late Peshwa raised.The company's rule ordered the commissioner in Bithoor to inform Nanarao that the government has considered him only the successor of the wealth wealth and not the title of Peshwa or of the political and personal facilities attached.Do not perform or perform any ceremony or performance in relation to obtaining the throne of the Peshwa.But the ambitious Nanarao took all the cotton in his hand and took control of the Peshwa's arsenal.In a few days, Nanarao took all the titles of the Peshwa.Immediately he submitted the application to the British government and demanded a fair demand for the commissioning of Peshwai pension.At the same time, he also sent him to buy with his lawyer, which was returned by the Collector of Kanpur and informed him that the government does not accept his profession.Nanarao Dhundhupant suffered a lot because he had to take care of many dependents.Nana Saheb wrote to Lord Dalhousie to get pension, but when he also refused, he appointed Azimullah Khan as his lawyer and sent it to Queen Victoria.Azimullah made many efforts but failed.While returning, he traveled to France, Italy and Russia etc.After coming back, Azimullah made Nana Saheb aware of his failure, the real situation of the British and the freedom movements of Europe.Nanarao Dhundhupant suffered a lot due to the attitude of the British government.They were not going to sit silent.He started pilgrimage at this time.
{ "answer_start": [ 30 ], "text": [ "1824" ] }
10
01 दिसम्बर 2013 - 31 नवंबर- 1 दिसंबर की मध्यरात्रि को 00:49 बजे मंगलयान को मार्स ट्रांसफर ट्रेजेक्‍टरी में प्रविष्‍ट करा दिया गया, इस प्रक्रिया को ट्रांस मार्स इंजेक्शन (टीएमआई) ऑपरेशन का नाम दिया गया। यह इसकी 20 करोड़ किलोमीटर से ज्यादा लम्बी यात्रा शुरूआत थी जिसमें नौ महीने से भी ज्यादा का समय लगना था और वैज्ञानिकों के समने सबसे बड़ी चुनौती इसके अन्तिम चरण में यान को बिल्कुल सटीक तौर पर धीमा करने की थी ताकि मंगल ग्रह अपने छोटे गुरुत्व बल के जरिये इसे अपने उपग्रह के रूप में स्वीकार करने को तैयार हो जाये। ,इसरो प्रमुख डॉ० के राधाकृष्णन ने कहा कि मंगल अभियान की परीक्षा में हम पास हुए या फेल, यह 24 सितम्बर को ही पता चलेगा। 4 दिसंबर 2013: मंगलयान 9.25 लाख किलोमीटर के दायरे वाले पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण प्रभाव क्षेत्र से बाहर निकला। 11 दिसंबर 2013 : पहली दिशा संशोधन प्रक्रिया संपन्न। 11 जून 2014 : दूसरी दिशा संशोधन प्रक्रिया संपन्न। 14 सितंबर 2014 : अंतिम चरण के लिए आवश्यक कमांड्स अपलोड की गई। 22 सितंबर 2014 : एमओएम ने मंगल के गुरुत्वीय क्षेत्र में प्रवेश किया। लगभग 300 दिन की संपूर्ण यात्रा के दौरान सुषुप्ति में पड़े रहने के बाद मंगलयान के मुख्य इंजन 440 न्यूटन लिक्विड एपोजी मोटर को 4 सेकंड्स तक चलाकर अंतिम परीक्षण एवं अंतिम पथ संशोधन कार्य सफलतापूर्वक पूरा किया गया। 24 सितम्बर 2014 : सुबह 7 बज कर 17 मिनट पर 440 न्यूटन लिक्विड एपोजी मोटर (एलएएम) यान को मंगल की कक्षा में प्रवेश कराने वाले थ्रस्टर्स के साथ सक्रिय की गई जिससे यान की गति को 22.1 किमी प्रति सेकंड से घटा कर 4.4 किमी प्रति सेकंड करके मंगलयान को मंगल ग्रह की कक्षा में सफलतापूर्वक प्रविष्ट किया गया। यह कार्य संपन्न होते ही सभी वैज्ञानिक खुशी से झूम उठे।
कैनबरा और गोल्डस्टोन में नासा के किन स्टेशनो द्वारा सिग्नल प्राप्त किए गए थे?
{ "text": [ "" ], "answer_start": [ null ] }
Signals were received by which NASA stations in Canberra and Goldstone?
01 December 2013 - 31 November - 31 November - On December 1, at midnight at 00:49, Mangalyaan was entered into the Mars transfer tragic, the process was named Trans Mars Injection (TMI) operation.It was a long journey of more than 20 million kilometers, in which it was to take more than nine months and the biggest challenge of scientists was to slow down the vehicle in its last phase so that Mars planet was of its small gravity force.Through it, be ready to accept it as your satellite., ISRO chief Dr. K Radhakrishnan said that we have passed or failed in the Mangal Abhiyan examination, it will be known only on 24 September.December 4, 2013: Mangalyaan exits the gravitational effect of Earth with a radius of 9.25 lakh kilometers.11 December 2013: First direction amendment process concluded.11 June 2014: Second direction amendment process concluded.14 September 2014: The required commands for the final phase were uploaded.22 September 2014: MOM enters the gravitational region of Mars.Mangalyaan's main engine was successfully completed by running 440 Newton Liquid Epoji Motor for 4 seconds after being lying in sleep during the entire journey of about 300 days.September 24, 2014: 440 Newton Liquid Epovji Motor (LAM) vehicle was activated with the thrusters who entered Mars orbit at 7.17 am, which reduced the speed of the vehicle from 22.1 km per second to 4.4 km per secondBy doing Mangalyaan was successfully entered in the orbit of Mars.As soon as this work was completed, all the scientists jumped with joy.
{ "answer_start": [ null ], "text": [ "" ] }
11
01 दिसम्बर 2013 - 31 नवंबर- 1 दिसंबर की मध्यरात्रि को 00:49 बजे मंगलयान को मार्स ट्रांसफर ट्रेजेक्‍टरी में प्रविष्‍ट करा दिया गया, इस प्रक्रिया को ट्रांस मार्स इंजेक्शन (टीएमआई) ऑपरेशन का नाम दिया गया। यह इसकी 20 करोड़ किलोमीटर से ज्यादा लम्बी यात्रा शुरूआत थी जिसमें नौ महीने से भी ज्यादा का समय लगना था और वैज्ञानिकों के समने सबसे बड़ी चुनौती इसके अन्तिम चरण में यान को बिल्कुल सटीक तौर पर धीमा करने की थी ताकि मंगल ग्रह अपने छोटे गुरुत्व बल के जरिये इसे अपने उपग्रह के रूप में स्वीकार करने को तैयार हो जाये। ,इसरो प्रमुख डॉ० के राधाकृष्णन ने कहा कि मंगल अभियान की परीक्षा में हम पास हुए या फेल, यह 24 सितम्बर को ही पता चलेगा। 4 दिसंबर 2013: मंगलयान 9.25 लाख किलोमीटर के दायरे वाले पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण प्रभाव क्षेत्र से बाहर निकला। 11 दिसंबर 2013 : पहली दिशा संशोधन प्रक्रिया संपन्न। 11 जून 2014 : दूसरी दिशा संशोधन प्रक्रिया संपन्न। 14 सितंबर 2014 : अंतिम चरण के लिए आवश्यक कमांड्स अपलोड की गई। 22 सितंबर 2014 : एमओएम ने मंगल के गुरुत्वीय क्षेत्र में प्रवेश किया। लगभग 300 दिन की संपूर्ण यात्रा के दौरान सुषुप्ति में पड़े रहने के बाद मंगलयान के मुख्य इंजन 440 न्यूटन लिक्विड एपोजी मोटर को 4 सेकंड्स तक चलाकर अंतिम परीक्षण एवं अंतिम पथ संशोधन कार्य सफलतापूर्वक पूरा किया गया। 24 सितम्बर 2014 : सुबह 7 बज कर 17 मिनट पर 440 न्यूटन लिक्विड एपोजी मोटर (एलएएम) यान को मंगल की कक्षा में प्रवेश कराने वाले थ्रस्टर्स के साथ सक्रिय की गई जिससे यान की गति को 22.1 किमी प्रति सेकंड से घटा कर 4.4 किमी प्रति सेकंड करके मंगलयान को मंगल ग्रह की कक्षा में सफलतापूर्वक प्रविष्ट किया गया। यह कार्य संपन्न होते ही सभी वैज्ञानिक खुशी से झूम उठे।
एमओएम ने मंगल के गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र में प्रवेश कब किया था?
{ "text": [ "22 सितंबर 2014" ], "answer_start": [ 895 ] }
When did MOM enter the gravitational field of Mars?
01 December 2013 - 31 November - 31 November - On December 1, at midnight at 00:49, Mangalyaan was entered into the Mars transfer tragic, the process was named Trans Mars Injection (TMI) operation.It was a long journey of more than 20 million kilometers, in which it was to take more than nine months and the biggest challenge of scientists was to slow down the vehicle in its last phase so that Mars planet was of its small gravity force.Through it, be ready to accept it as your satellite., ISRO chief Dr. K Radhakrishnan said that we have passed or failed in the Mangal Abhiyan examination, it will be known only on 24 September.December 4, 2013: Mangalyaan exits the gravitational effect of Earth with a radius of 9.25 lakh kilometers.11 December 2013: First direction amendment process concluded.11 June 2014: Second direction amendment process concluded.14 September 2014: The required commands for the final phase were uploaded.22 September 2014: MOM enters the gravitational region of Mars.Mangalyaan's main engine was successfully completed by running 440 Newton Liquid Epoji Motor for 4 seconds after being lying in sleep during the entire journey of about 300 days.September 24, 2014: 440 Newton Liquid Epovji Motor (LAM) vehicle was activated with the thrusters who entered Mars orbit at 7.17 am, which reduced the speed of the vehicle from 22.1 km per second to 4.4 km per secondBy doing Mangalyaan was successfully entered in the orbit of Mars.As soon as this work was completed, all the scientists jumped with joy.
{ "answer_start": [ 895 ], "text": [ "22nd September 2014" ] }
12
01 दिसम्बर 2013 - 31 नवंबर- 1 दिसंबर की मध्यरात्रि को 00:49 बजे मंगलयान को मार्स ट्रांसफर ट्रेजेक्‍टरी में प्रविष्‍ट करा दिया गया, इस प्रक्रिया को ट्रांस मार्स इंजेक्शन (टीएमआई) ऑपरेशन का नाम दिया गया। यह इसकी 20 करोड़ किलोमीटर से ज्यादा लम्बी यात्रा शुरूआत थी जिसमें नौ महीने से भी ज्यादा का समय लगना था और वैज्ञानिकों के समने सबसे बड़ी चुनौती इसके अन्तिम चरण में यान को बिल्कुल सटीक तौर पर धीमा करने की थी ताकि मंगल ग्रह अपने छोटे गुरुत्व बल के जरिये इसे अपने उपग्रह के रूप में स्वीकार करने को तैयार हो जाये। ,इसरो प्रमुख डॉ० के राधाकृष्णन ने कहा कि मंगल अभियान की परीक्षा में हम पास हुए या फेल, यह 24 सितम्बर को ही पता चलेगा। 4 दिसंबर 2013: मंगलयान 9.25 लाख किलोमीटर के दायरे वाले पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण प्रभाव क्षेत्र से बाहर निकला। 11 दिसंबर 2013 : पहली दिशा संशोधन प्रक्रिया संपन्न। 11 जून 2014 : दूसरी दिशा संशोधन प्रक्रिया संपन्न। 14 सितंबर 2014 : अंतिम चरण के लिए आवश्यक कमांड्स अपलोड की गई। 22 सितंबर 2014 : एमओएम ने मंगल के गुरुत्वीय क्षेत्र में प्रवेश किया। लगभग 300 दिन की संपूर्ण यात्रा के दौरान सुषुप्ति में पड़े रहने के बाद मंगलयान के मुख्य इंजन 440 न्यूटन लिक्विड एपोजी मोटर को 4 सेकंड्स तक चलाकर अंतिम परीक्षण एवं अंतिम पथ संशोधन कार्य सफलतापूर्वक पूरा किया गया। 24 सितम्बर 2014 : सुबह 7 बज कर 17 मिनट पर 440 न्यूटन लिक्विड एपोजी मोटर (एलएएम) यान को मंगल की कक्षा में प्रवेश कराने वाले थ्रस्टर्स के साथ सक्रिय की गई जिससे यान की गति को 22.1 किमी प्रति सेकंड से घटा कर 4.4 किमी प्रति सेकंड करके मंगलयान को मंगल ग्रह की कक्षा में सफलतापूर्वक प्रविष्ट किया गया। यह कार्य संपन्न होते ही सभी वैज्ञानिक खुशी से झूम उठे।
अंतरिक्ष यान ने मंगल की कक्षा में प्रवेश किया इस संकेत को पृथ्वी तक पहुंचने में कितना समय लगा था?
{ "text": [ "" ], "answer_start": [ null ] }
The spacecraft entered the orbit of Mars How long did it take for this signal to reach Earth?
01 December 2013 - 31 November - 31 November - On December 1, at midnight at 00:49, Mangalyaan was entered into the Mars transfer tragic, the process was named Trans Mars Injection (TMI) operation.It was a long journey of more than 20 million kilometers, in which it was to take more than nine months and the biggest challenge of scientists was to slow down the vehicle in its last phase so that Mars planet was of its small gravity force.Through it, be ready to accept it as your satellite., ISRO chief Dr. K Radhakrishnan said that we have passed or failed in the Mangal Abhiyan examination, it will be known only on 24 September.December 4, 2013: Mangalyaan exits the gravitational effect of Earth with a radius of 9.25 lakh kilometers.11 December 2013: First direction amendment process concluded.11 June 2014: Second direction amendment process concluded.14 September 2014: The required commands for the final phase were uploaded.22 September 2014: MOM enters the gravitational region of Mars.Mangalyaan's main engine was successfully completed by running 440 Newton Liquid Epoji Motor for 4 seconds after being lying in sleep during the entire journey of about 300 days.September 24, 2014: 440 Newton Liquid Epovji Motor (LAM) vehicle was activated with the thrusters who entered Mars orbit at 7.17 am, which reduced the speed of the vehicle from 22.1 km per second to 4.4 km per secondBy doing Mangalyaan was successfully entered in the orbit of Mars.As soon as this work was completed, all the scientists jumped with joy.
{ "answer_start": [ null ], "text": [ "" ] }
13
01 दिसम्बर 2013 - 31 नवंबर- 1 दिसंबर की मध्यरात्रि को 00:49 बजे मंगलयान को मार्स ट्रांसफर ट्रेजेक्‍टरी में प्रविष्‍ट करा दिया गया, इस प्रक्रिया को ट्रांस मार्स इंजेक्शन (टीएमआई) ऑपरेशन का नाम दिया गया। यह इसकी 20 करोड़ किलोमीटर से ज्यादा लम्बी यात्रा शुरूआत थी जिसमें नौ महीने से भी ज्यादा का समय लगना था और वैज्ञानिकों के समने सबसे बड़ी चुनौती इसके अन्तिम चरण में यान को बिल्कुल सटीक तौर पर धीमा करने की थी ताकि मंगल ग्रह अपने छोटे गुरुत्व बल के जरिये इसे अपने उपग्रह के रूप में स्वीकार करने को तैयार हो जाये। ,इसरो प्रमुख डॉ० के राधाकृष्णन ने कहा कि मंगल अभियान की परीक्षा में हम पास हुए या फेल, यह 24 सितम्बर को ही पता चलेगा। 4 दिसंबर 2013: मंगलयान 9.25 लाख किलोमीटर के दायरे वाले पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण प्रभाव क्षेत्र से बाहर निकला। 11 दिसंबर 2013 : पहली दिशा संशोधन प्रक्रिया संपन्न। 11 जून 2014 : दूसरी दिशा संशोधन प्रक्रिया संपन्न। 14 सितंबर 2014 : अंतिम चरण के लिए आवश्यक कमांड्स अपलोड की गई। 22 सितंबर 2014 : एमओएम ने मंगल के गुरुत्वीय क्षेत्र में प्रवेश किया। लगभग 300 दिन की संपूर्ण यात्रा के दौरान सुषुप्ति में पड़े रहने के बाद मंगलयान के मुख्य इंजन 440 न्यूटन लिक्विड एपोजी मोटर को 4 सेकंड्स तक चलाकर अंतिम परीक्षण एवं अंतिम पथ संशोधन कार्य सफलतापूर्वक पूरा किया गया। 24 सितम्बर 2014 : सुबह 7 बज कर 17 मिनट पर 440 न्यूटन लिक्विड एपोजी मोटर (एलएएम) यान को मंगल की कक्षा में प्रवेश कराने वाले थ्रस्टर्स के साथ सक्रिय की गई जिससे यान की गति को 22.1 किमी प्रति सेकंड से घटा कर 4.4 किमी प्रति सेकंड करके मंगलयान को मंगल ग्रह की कक्षा में सफलतापूर्वक प्रविष्ट किया गया। यह कार्य संपन्न होते ही सभी वैज्ञानिक खुशी से झूम उठे।
मंगलयान को कितने बजे मार्स ट्रांसफर ट्रैजेक्टरी में इंजेक्ट किया गया था?
{ "text": [ "00:49 बजे" ], "answer_start": [ 54 ] }
At what time was Mangalyaan injected into the Mars Transfer Trajectory?
01 December 2013 - 31 November - 31 November - On December 1, at midnight at 00:49, Mangalyaan was entered into the Mars transfer tragic, the process was named Trans Mars Injection (TMI) operation.It was a long journey of more than 20 million kilometers, in which it was to take more than nine months and the biggest challenge of scientists was to slow down the vehicle in its last phase so that Mars planet was of its small gravity force.Through it, be ready to accept it as your satellite., ISRO chief Dr. K Radhakrishnan said that we have passed or failed in the Mangal Abhiyan examination, it will be known only on 24 September.December 4, 2013: Mangalyaan exits the gravitational effect of Earth with a radius of 9.25 lakh kilometers.11 December 2013: First direction amendment process concluded.11 June 2014: Second direction amendment process concluded.14 September 2014: The required commands for the final phase were uploaded.22 September 2014: MOM enters the gravitational region of Mars.Mangalyaan's main engine was successfully completed by running 440 Newton Liquid Epoji Motor for 4 seconds after being lying in sleep during the entire journey of about 300 days.September 24, 2014: 440 Newton Liquid Epovji Motor (LAM) vehicle was activated with the thrusters who entered Mars orbit at 7.17 am, which reduced the speed of the vehicle from 22.1 km per second to 4.4 km per secondBy doing Mangalyaan was successfully entered in the orbit of Mars.As soon as this work was completed, all the scientists jumped with joy.
{ "answer_start": [ 54 ], "text": [ "00:49 o'clock" ] }
14
01 दिसम्बर 2013 - 31 नवंबर- 1 दिसंबर की मध्यरात्रि को 00:49 बजे मंगलयान को मार्स ट्रांसफर ट्रेजेक्‍टरी में प्रविष्‍ट करा दिया गया, इस प्रक्रिया को ट्रांस मार्स इंजेक्शन (टीएमआई) ऑपरेशन का नाम दिया गया। यह इसकी 20 करोड़ किलोमीटर से ज्यादा लम्बी यात्रा शुरूआत थी जिसमें नौ महीने से भी ज्यादा का समय लगना था और वैज्ञानिकों के समने सबसे बड़ी चुनौती इसके अन्तिम चरण में यान को बिल्कुल सटीक तौर पर धीमा करने की थी ताकि मंगल ग्रह अपने छोटे गुरुत्व बल के जरिये इसे अपने उपग्रह के रूप में स्वीकार करने को तैयार हो जाये। ,इसरो प्रमुख डॉ० के राधाकृष्णन ने कहा कि मंगल अभियान की परीक्षा में हम पास हुए या फेल, यह 24 सितम्बर को ही पता चलेगा। 4 दिसंबर 2013: मंगलयान 9.25 लाख किलोमीटर के दायरे वाले पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण प्रभाव क्षेत्र से बाहर निकला। 11 दिसंबर 2013 : पहली दिशा संशोधन प्रक्रिया संपन्न। 11 जून 2014 : दूसरी दिशा संशोधन प्रक्रिया संपन्न। 14 सितंबर 2014 : अंतिम चरण के लिए आवश्यक कमांड्स अपलोड की गई। 22 सितंबर 2014 : एमओएम ने मंगल के गुरुत्वीय क्षेत्र में प्रवेश किया। लगभग 300 दिन की संपूर्ण यात्रा के दौरान सुषुप्ति में पड़े रहने के बाद मंगलयान के मुख्य इंजन 440 न्यूटन लिक्विड एपोजी मोटर को 4 सेकंड्स तक चलाकर अंतिम परीक्षण एवं अंतिम पथ संशोधन कार्य सफलतापूर्वक पूरा किया गया। 24 सितम्बर 2014 : सुबह 7 बज कर 17 मिनट पर 440 न्यूटन लिक्विड एपोजी मोटर (एलएएम) यान को मंगल की कक्षा में प्रवेश कराने वाले थ्रस्टर्स के साथ सक्रिय की गई जिससे यान की गति को 22.1 किमी प्रति सेकंड से घटा कर 4.4 किमी प्रति सेकंड करके मंगलयान को मंगल ग्रह की कक्षा में सफलतापूर्वक प्रविष्ट किया गया। यह कार्य संपन्न होते ही सभी वैज्ञानिक खुशी से झूम उठे।
मंगलयान को सफलतापूर्वक मंगल की कक्षा में इंजेक्ट कब कर दिया गया था?
{ "text": [ "1 दिसंबर" ], "answer_start": [ 28 ] }
When was Mangalyaan successfully injected into the orbit of Mars?
01 December 2013 - 31 November - 31 November - On December 1, at midnight at 00:49, Mangalyaan was entered into the Mars transfer tragic, the process was named Trans Mars Injection (TMI) operation.It was a long journey of more than 20 million kilometers, in which it was to take more than nine months and the biggest challenge of scientists was to slow down the vehicle in its last phase so that Mars planet was of its small gravity force.Through it, be ready to accept it as your satellite., ISRO chief Dr. K Radhakrishnan said that we have passed or failed in the Mangal Abhiyan examination, it will be known only on 24 September.December 4, 2013: Mangalyaan exits the gravitational effect of Earth with a radius of 9.25 lakh kilometers.11 December 2013: First direction amendment process concluded.11 June 2014: Second direction amendment process concluded.14 September 2014: The required commands for the final phase were uploaded.22 September 2014: MOM enters the gravitational region of Mars.Mangalyaan's main engine was successfully completed by running 440 Newton Liquid Epoji Motor for 4 seconds after being lying in sleep during the entire journey of about 300 days.September 24, 2014: 440 Newton Liquid Epovji Motor (LAM) vehicle was activated with the thrusters who entered Mars orbit at 7.17 am, which reduced the speed of the vehicle from 22.1 km per second to 4.4 km per secondBy doing Mangalyaan was successfully entered in the orbit of Mars.As soon as this work was completed, all the scientists jumped with joy.
{ "answer_start": [ 28 ], "text": [ "December 1" ] }
15
1 और 2 शताब्दी के दौरान दक्षिणी भारत के चेरस, चोल और पांडिओं के रोमन मिस्र और तमिल राज्यों के बीच विकसित गहन व्यापार संबंध थे। ऊपर इंडोनेशियाई लोगों की तरह, पश्चिमी नाविकों ने समुद्र पार करने के लिए मानसून का इस्तेमाल किया एरिथ्रेअन सागर के पेरिप्लस के अज्ञात लेखक इस मार्ग का वर्णन करता है, साथ ही साथ वस्तुओं के अफ्रीका और भारत लगभग 1 सीई के किनारे पर विभिन्न वाणिज्यिक बंदरगाहों के साथ व्यापार किया गया था। इन व्यापारिक बस्तियों में लाल सागर तट पर मोसीलोन और ओपन थे। प्रशांत महासागर के विपरीत जहां पॉलिनेशिया की सभ्यता दूर-दूर तक द्वीपों और एटोल पर पहुंच गई थी और उनसे आबादी हुई थी, औपनिवेशिक काल तक लगभग सभी द्वीपों, आर्चिपेलॅगो और हिंद महासागर के एंटोल्स निर्जन थे। यद्यपि एशिया के तटीय राज्यों और अफ्रीका के कुछ हिस्सों में कई प्राचीन सभ्यताएं थीं, लेकिन मालदीव केंद्रीय भारतीय महासागर क्षेत्र में एकमात्र द्वीप समूह थे जहां एक प्राचीन सभ्यता विकसित हुई थी। मालदीव के जहाजों ने पास के तटों की यात्रा करने के लिए भारतीय मॉनसून चालू का इस्तेमाल किया। 1405 से 1433 तक एडमिरल झेंग ने हिंद महासागर के माध्यम से कई खजाने यात्राओं पर अंततः अंततः पूर्वी अफ्रीका के तटीय देशों तक पहुंचने वाले मिंग राजवंश के बड़े बेड़े का नेतृत्व किया। 1497 में पुर्तगाली नाविक वास्को द गामा ने केप ऑफ गुड होप को गोल कर दिया और भारत के लिए पाल करने वाले पहले यूरोपीय और बाद में सुदूर पूर्व बन गए। यूरोपीय जहाजों, भारी तोप से सशस्त्र, जल्दी व्यापार पर हावी। पुर्तगाल ने महत्वपूर्ण जलडमरूमध्य और बंदरगाहों पर किलों की स्थापना के द्वारा श्रेष्ठता प्राप्त की। अफ्रीका और एशिया के तट के साथ उनकी आधिकारिकता 17 वीं सदी के मध्य तक चली। बाद में, पुर्तगाली को अन्य यूरोपीय शक्तियों द्वारा चुनौती दी गई थी डच ईस्ट इंडिया कंपनी (1602-1798) ने हिंद महासागर के पार ईस्ट के साथ व्यापार पर नियंत्रण की मांग की। फ्रांस और ब्रिटेन ने क्षेत्र के लिए व्यापारिक कंपनियों की स्थापना की।
स्पेन ने फिलीपींस और प्रशांत क्षेत्र में मनीला गैलिंस के साथ व्यापारिक अभियान की स्थापना कब की थी ?
{ "text": [ "" ], "answer_start": [ null ] }
When did Spain establish trading expeditions with the Philippines and the Manila Galleons in the Pacific?
During the 1 and 2 centuries, Roman, Chola and Pandi of Southern India had intensive trade relations developed between Roman Egypt and Tamil states.Like the Indonesian people above, Western sailors used monsoon to cross the sea. Unknown writer of Periplus of the Erythreon Sea describes this route, as well as the objects of Africa and India about 1 CEBusiness was done with.These trading settlements were Milon and Open on the Red Sea coast.Unlike the Pacific Ocean, where the civilization of Polynesia reached far and wide on islands and atols and had a population, almost all the islands, Archiplogs and Antols of the Indian Ocean were uninhabited until the colonial period.Although there were many ancient civilizations in the coastal states of Asia and parts of Africa, the Maldives were the only islands in the Central Indian Ocean region where an ancient civilization developed.Maldives ships used Indian monsoon current to travel to nearby shores.From 1405 to 1433, Admiral Zheng led the big fleet of the Ming dynasty that eventually reached the coastal countries of East Africa on several treasure trips through the Indian Ocean.In 1497, the Portuguese sailor Vasco the Gama scored the Cape of Good Hope and became the first European and later the Far East to raise India.European ships, armed with heavy cannon, dominating quick business.Portugal achieved superiority by the establishment of forts at the important strait and ports.Their officiality along the coast of Africa and Asia lasted until the middle of the 17th century.Later, Portuguese was challenged by other European powers Dutch East India Company (1602–1798) demanded control of trade with East across the Indian Ocean.France and Britain established business companies for the region.
{ "answer_start": [ null ], "text": [ "" ] }
16
1 और 2 शताब्दी के दौरान दक्षिणी भारत के चेरस, चोल और पांडिओं के रोमन मिस्र और तमिल राज्यों के बीच विकसित गहन व्यापार संबंध थे। ऊपर इंडोनेशियाई लोगों की तरह, पश्चिमी नाविकों ने समुद्र पार करने के लिए मानसून का इस्तेमाल किया एरिथ्रेअन सागर के पेरिप्लस के अज्ञात लेखक इस मार्ग का वर्णन करता है, साथ ही साथ वस्तुओं के अफ्रीका और भारत लगभग 1 सीई के किनारे पर विभिन्न वाणिज्यिक बंदरगाहों के साथ व्यापार किया गया था। इन व्यापारिक बस्तियों में लाल सागर तट पर मोसीलोन और ओपन थे। प्रशांत महासागर के विपरीत जहां पॉलिनेशिया की सभ्यता दूर-दूर तक द्वीपों और एटोल पर पहुंच गई थी और उनसे आबादी हुई थी, औपनिवेशिक काल तक लगभग सभी द्वीपों, आर्चिपेलॅगो और हिंद महासागर के एंटोल्स निर्जन थे। यद्यपि एशिया के तटीय राज्यों और अफ्रीका के कुछ हिस्सों में कई प्राचीन सभ्यताएं थीं, लेकिन मालदीव केंद्रीय भारतीय महासागर क्षेत्र में एकमात्र द्वीप समूह थे जहां एक प्राचीन सभ्यता विकसित हुई थी। मालदीव के जहाजों ने पास के तटों की यात्रा करने के लिए भारतीय मॉनसून चालू का इस्तेमाल किया। 1405 से 1433 तक एडमिरल झेंग ने हिंद महासागर के माध्यम से कई खजाने यात्राओं पर अंततः अंततः पूर्वी अफ्रीका के तटीय देशों तक पहुंचने वाले मिंग राजवंश के बड़े बेड़े का नेतृत्व किया। 1497 में पुर्तगाली नाविक वास्को द गामा ने केप ऑफ गुड होप को गोल कर दिया और भारत के लिए पाल करने वाले पहले यूरोपीय और बाद में सुदूर पूर्व बन गए। यूरोपीय जहाजों, भारी तोप से सशस्त्र, जल्दी व्यापार पर हावी। पुर्तगाल ने महत्वपूर्ण जलडमरूमध्य और बंदरगाहों पर किलों की स्थापना के द्वारा श्रेष्ठता प्राप्त की। अफ्रीका और एशिया के तट के साथ उनकी आधिकारिकता 17 वीं सदी के मध्य तक चली। बाद में, पुर्तगाली को अन्य यूरोपीय शक्तियों द्वारा चुनौती दी गई थी डच ईस्ट इंडिया कंपनी (1602-1798) ने हिंद महासागर के पार ईस्ट के साथ व्यापार पर नियंत्रण की मांग की। फ्रांस और ब्रिटेन ने क्षेत्र के लिए व्यापारिक कंपनियों की स्थापना की।
पुर्तगाली नाविक वास्को डी गामा ने केप का स्कोर किस वर्ष बनाया था ?
{ "text": [ "1497" ], "answer_start": [ 1126 ] }
In which year did the Portuguese navigator Vasco da Gama score a Cape?
During the 1 and 2 centuries, Roman, Chola and Pandi of Southern India had intensive trade relations developed between Roman Egypt and Tamil states.Like the Indonesian people above, Western sailors used monsoon to cross the sea. Unknown writer of Periplus of the Erythreon Sea describes this route, as well as the objects of Africa and India about 1 CEBusiness was done with.These trading settlements were Milon and Open on the Red Sea coast.Unlike the Pacific Ocean, where the civilization of Polynesia reached far and wide on islands and atols and had a population, almost all the islands, Archiplogs and Antols of the Indian Ocean were uninhabited until the colonial period.Although there were many ancient civilizations in the coastal states of Asia and parts of Africa, the Maldives were the only islands in the Central Indian Ocean region where an ancient civilization developed.Maldives ships used Indian monsoon current to travel to nearby shores.From 1405 to 1433, Admiral Zheng led the big fleet of the Ming dynasty that eventually reached the coastal countries of East Africa on several treasure trips through the Indian Ocean.In 1497, the Portuguese sailor Vasco the Gama scored the Cape of Good Hope and became the first European and later the Far East to raise India.European ships, armed with heavy cannon, dominating quick business.Portugal achieved superiority by the establishment of forts at the important strait and ports.Their officiality along the coast of Africa and Asia lasted until the middle of the 17th century.Later, Portuguese was challenged by other European powers Dutch East India Company (1602–1798) demanded control of trade with East across the Indian Ocean.France and Britain established business companies for the region.
{ "answer_start": [ 1126 ], "text": [ "1497" ] }
17
1 और 2 शताब्दी के दौरान दक्षिणी भारत के चेरस, चोल और पांडिओं के रोमन मिस्र और तमिल राज्यों के बीच विकसित गहन व्यापार संबंध थे। ऊपर इंडोनेशियाई लोगों की तरह, पश्चिमी नाविकों ने समुद्र पार करने के लिए मानसून का इस्तेमाल किया एरिथ्रेअन सागर के पेरिप्लस के अज्ञात लेखक इस मार्ग का वर्णन करता है, साथ ही साथ वस्तुओं के अफ्रीका और भारत लगभग 1 सीई के किनारे पर विभिन्न वाणिज्यिक बंदरगाहों के साथ व्यापार किया गया था। इन व्यापारिक बस्तियों में लाल सागर तट पर मोसीलोन और ओपन थे। प्रशांत महासागर के विपरीत जहां पॉलिनेशिया की सभ्यता दूर-दूर तक द्वीपों और एटोल पर पहुंच गई थी और उनसे आबादी हुई थी, औपनिवेशिक काल तक लगभग सभी द्वीपों, आर्चिपेलॅगो और हिंद महासागर के एंटोल्स निर्जन थे। यद्यपि एशिया के तटीय राज्यों और अफ्रीका के कुछ हिस्सों में कई प्राचीन सभ्यताएं थीं, लेकिन मालदीव केंद्रीय भारतीय महासागर क्षेत्र में एकमात्र द्वीप समूह थे जहां एक प्राचीन सभ्यता विकसित हुई थी। मालदीव के जहाजों ने पास के तटों की यात्रा करने के लिए भारतीय मॉनसून चालू का इस्तेमाल किया। 1405 से 1433 तक एडमिरल झेंग ने हिंद महासागर के माध्यम से कई खजाने यात्राओं पर अंततः अंततः पूर्वी अफ्रीका के तटीय देशों तक पहुंचने वाले मिंग राजवंश के बड़े बेड़े का नेतृत्व किया। 1497 में पुर्तगाली नाविक वास्को द गामा ने केप ऑफ गुड होप को गोल कर दिया और भारत के लिए पाल करने वाले पहले यूरोपीय और बाद में सुदूर पूर्व बन गए। यूरोपीय जहाजों, भारी तोप से सशस्त्र, जल्दी व्यापार पर हावी। पुर्तगाल ने महत्वपूर्ण जलडमरूमध्य और बंदरगाहों पर किलों की स्थापना के द्वारा श्रेष्ठता प्राप्त की। अफ्रीका और एशिया के तट के साथ उनकी आधिकारिकता 17 वीं सदी के मध्य तक चली। बाद में, पुर्तगाली को अन्य यूरोपीय शक्तियों द्वारा चुनौती दी गई थी डच ईस्ट इंडिया कंपनी (1602-1798) ने हिंद महासागर के पार ईस्ट के साथ व्यापार पर नियंत्रण की मांग की। फ्रांस और ब्रिटेन ने क्षेत्र के लिए व्यापारिक कंपनियों की स्थापना की।
ब्रिटेन हिंद महासागर में किस वर्ष तक प्रमुख शक्ति बन गया था ?
{ "text": [ "" ], "answer_start": [ null ] }
By what year had Britain become the dominant power in the Indian Ocean?
During the 1 and 2 centuries, Roman, Chola and Pandi of Southern India had intensive trade relations developed between Roman Egypt and Tamil states.Like the Indonesian people above, Western sailors used monsoon to cross the sea. Unknown writer of Periplus of the Erythreon Sea describes this route, as well as the objects of Africa and India about 1 CEBusiness was done with.These trading settlements were Milon and Open on the Red Sea coast.Unlike the Pacific Ocean, where the civilization of Polynesia reached far and wide on islands and atols and had a population, almost all the islands, Archiplogs and Antols of the Indian Ocean were uninhabited until the colonial period.Although there were many ancient civilizations in the coastal states of Asia and parts of Africa, the Maldives were the only islands in the Central Indian Ocean region where an ancient civilization developed.Maldives ships used Indian monsoon current to travel to nearby shores.From 1405 to 1433, Admiral Zheng led the big fleet of the Ming dynasty that eventually reached the coastal countries of East Africa on several treasure trips through the Indian Ocean.In 1497, the Portuguese sailor Vasco the Gama scored the Cape of Good Hope and became the first European and later the Far East to raise India.European ships, armed with heavy cannon, dominating quick business.Portugal achieved superiority by the establishment of forts at the important strait and ports.Their officiality along the coast of Africa and Asia lasted until the middle of the 17th century.Later, Portuguese was challenged by other European powers Dutch East India Company (1602–1798) demanded control of trade with East across the Indian Ocean.France and Britain established business companies for the region.
{ "answer_start": [ null ], "text": [ "" ] }
18
1 और 2 शताब्दी के दौरान दक्षिणी भारत के चेरस, चोल और पांडिओं के रोमन मिस्र और तमिल राज्यों के बीच विकसित गहन व्यापार संबंध थे। ऊपर इंडोनेशियाई लोगों की तरह, पश्चिमी नाविकों ने समुद्र पार करने के लिए मानसून का इस्तेमाल किया एरिथ्रेअन सागर के पेरिप्लस के अज्ञात लेखक इस मार्ग का वर्णन करता है, साथ ही साथ वस्तुओं के अफ्रीका और भारत लगभग 1 सीई के किनारे पर विभिन्न वाणिज्यिक बंदरगाहों के साथ व्यापार किया गया था। इन व्यापारिक बस्तियों में लाल सागर तट पर मोसीलोन और ओपन थे। प्रशांत महासागर के विपरीत जहां पॉलिनेशिया की सभ्यता दूर-दूर तक द्वीपों और एटोल पर पहुंच गई थी और उनसे आबादी हुई थी, औपनिवेशिक काल तक लगभग सभी द्वीपों, आर्चिपेलॅगो और हिंद महासागर के एंटोल्स निर्जन थे। यद्यपि एशिया के तटीय राज्यों और अफ्रीका के कुछ हिस्सों में कई प्राचीन सभ्यताएं थीं, लेकिन मालदीव केंद्रीय भारतीय महासागर क्षेत्र में एकमात्र द्वीप समूह थे जहां एक प्राचीन सभ्यता विकसित हुई थी। मालदीव के जहाजों ने पास के तटों की यात्रा करने के लिए भारतीय मॉनसून चालू का इस्तेमाल किया। 1405 से 1433 तक एडमिरल झेंग ने हिंद महासागर के माध्यम से कई खजाने यात्राओं पर अंततः अंततः पूर्वी अफ्रीका के तटीय देशों तक पहुंचने वाले मिंग राजवंश के बड़े बेड़े का नेतृत्व किया। 1497 में पुर्तगाली नाविक वास्को द गामा ने केप ऑफ गुड होप को गोल कर दिया और भारत के लिए पाल करने वाले पहले यूरोपीय और बाद में सुदूर पूर्व बन गए। यूरोपीय जहाजों, भारी तोप से सशस्त्र, जल्दी व्यापार पर हावी। पुर्तगाल ने महत्वपूर्ण जलडमरूमध्य और बंदरगाहों पर किलों की स्थापना के द्वारा श्रेष्ठता प्राप्त की। अफ्रीका और एशिया के तट के साथ उनकी आधिकारिकता 17 वीं सदी के मध्य तक चली। बाद में, पुर्तगाली को अन्य यूरोपीय शक्तियों द्वारा चुनौती दी गई थी डच ईस्ट इंडिया कंपनी (1602-1798) ने हिंद महासागर के पार ईस्ट के साथ व्यापार पर नियंत्रण की मांग की। फ्रांस और ब्रिटेन ने क्षेत्र के लिए व्यापारिक कंपनियों की स्थापना की।
पश्चिमी नाविकों ने समुद्र पार करने के लिए किसका का इस्तेमाल किया था ?
{ "text": [ "मानसून" ], "answer_start": [ 198 ] }
Which was used by western sailors to cross the sea?
During the 1 and 2 centuries, Roman, Chola and Pandi of Southern India had intensive trade relations developed between Roman Egypt and Tamil states.Like the Indonesian people above, Western sailors used monsoon to cross the sea. Unknown writer of Periplus of the Erythreon Sea describes this route, as well as the objects of Africa and India about 1 CEBusiness was done with.These trading settlements were Milon and Open on the Red Sea coast.Unlike the Pacific Ocean, where the civilization of Polynesia reached far and wide on islands and atols and had a population, almost all the islands, Archiplogs and Antols of the Indian Ocean were uninhabited until the colonial period.Although there were many ancient civilizations in the coastal states of Asia and parts of Africa, the Maldives were the only islands in the Central Indian Ocean region where an ancient civilization developed.Maldives ships used Indian monsoon current to travel to nearby shores.From 1405 to 1433, Admiral Zheng led the big fleet of the Ming dynasty that eventually reached the coastal countries of East Africa on several treasure trips through the Indian Ocean.In 1497, the Portuguese sailor Vasco the Gama scored the Cape of Good Hope and became the first European and later the Far East to raise India.European ships, armed with heavy cannon, dominating quick business.Portugal achieved superiority by the establishment of forts at the important strait and ports.Their officiality along the coast of Africa and Asia lasted until the middle of the 17th century.Later, Portuguese was challenged by other European powers Dutch East India Company (1602–1798) demanded control of trade with East across the Indian Ocean.France and Britain established business companies for the region.
{ "answer_start": [ 198 ], "text": [ "Monsoon" ] }
19
1 और 2 शताब्दी के दौरान दक्षिणी भारत के चेरस, चोल और पांडिओं के रोमन मिस्र और तमिल राज्यों के बीच विकसित गहन व्यापार संबंध थे। ऊपर इंडोनेशियाई लोगों की तरह, पश्चिमी नाविकों ने समुद्र पार करने के लिए मानसून का इस्तेमाल किया एरिथ्रेअन सागर के पेरिप्लस के अज्ञात लेखक इस मार्ग का वर्णन करता है, साथ ही साथ वस्तुओं के अफ्रीका और भारत लगभग 1 सीई के किनारे पर विभिन्न वाणिज्यिक बंदरगाहों के साथ व्यापार किया गया था। इन व्यापारिक बस्तियों में लाल सागर तट पर मोसीलोन और ओपन थे। प्रशांत महासागर के विपरीत जहां पॉलिनेशिया की सभ्यता दूर-दूर तक द्वीपों और एटोल पर पहुंच गई थी और उनसे आबादी हुई थी, औपनिवेशिक काल तक लगभग सभी द्वीपों, आर्चिपेलॅगो और हिंद महासागर के एंटोल्स निर्जन थे। यद्यपि एशिया के तटीय राज्यों और अफ्रीका के कुछ हिस्सों में कई प्राचीन सभ्यताएं थीं, लेकिन मालदीव केंद्रीय भारतीय महासागर क्षेत्र में एकमात्र द्वीप समूह थे जहां एक प्राचीन सभ्यता विकसित हुई थी। मालदीव के जहाजों ने पास के तटों की यात्रा करने के लिए भारतीय मॉनसून चालू का इस्तेमाल किया। 1405 से 1433 तक एडमिरल झेंग ने हिंद महासागर के माध्यम से कई खजाने यात्राओं पर अंततः अंततः पूर्वी अफ्रीका के तटीय देशों तक पहुंचने वाले मिंग राजवंश के बड़े बेड़े का नेतृत्व किया। 1497 में पुर्तगाली नाविक वास्को द गामा ने केप ऑफ गुड होप को गोल कर दिया और भारत के लिए पाल करने वाले पहले यूरोपीय और बाद में सुदूर पूर्व बन गए। यूरोपीय जहाजों, भारी तोप से सशस्त्र, जल्दी व्यापार पर हावी। पुर्तगाल ने महत्वपूर्ण जलडमरूमध्य और बंदरगाहों पर किलों की स्थापना के द्वारा श्रेष्ठता प्राप्त की। अफ्रीका और एशिया के तट के साथ उनकी आधिकारिकता 17 वीं सदी के मध्य तक चली। बाद में, पुर्तगाली को अन्य यूरोपीय शक्तियों द्वारा चुनौती दी गई थी डच ईस्ट इंडिया कंपनी (1602-1798) ने हिंद महासागर के पार ईस्ट के साथ व्यापार पर नियंत्रण की मांग की। फ्रांस और ब्रिटेन ने क्षेत्र के लिए व्यापारिक कंपनियों की स्थापना की।
मध्य हिंद महासागर क्षेत्र में एकमात्र द्वीप का नाम क्या था ?
{ "text": [ "मालदीव" ], "answer_start": [ 757 ] }
What was the name of the only island in the central Indian Ocean region?
During the 1 and 2 centuries, Roman, Chola and Pandi of Southern India had intensive trade relations developed between Roman Egypt and Tamil states.Like the Indonesian people above, Western sailors used monsoon to cross the sea. Unknown writer of Periplus of the Erythreon Sea describes this route, as well as the objects of Africa and India about 1 CEBusiness was done with.These trading settlements were Milon and Open on the Red Sea coast.Unlike the Pacific Ocean, where the civilization of Polynesia reached far and wide on islands and atols and had a population, almost all the islands, Archiplogs and Antols of the Indian Ocean were uninhabited until the colonial period.Although there were many ancient civilizations in the coastal states of Asia and parts of Africa, the Maldives were the only islands in the Central Indian Ocean region where an ancient civilization developed.Maldives ships used Indian monsoon current to travel to nearby shores.From 1405 to 1433, Admiral Zheng led the big fleet of the Ming dynasty that eventually reached the coastal countries of East Africa on several treasure trips through the Indian Ocean.In 1497, the Portuguese sailor Vasco the Gama scored the Cape of Good Hope and became the first European and later the Far East to raise India.European ships, armed with heavy cannon, dominating quick business.Portugal achieved superiority by the establishment of forts at the important strait and ports.Their officiality along the coast of Africa and Asia lasted until the middle of the 17th century.Later, Portuguese was challenged by other European powers Dutch East India Company (1602–1798) demanded control of trade with East across the Indian Ocean.France and Britain established business companies for the region.
{ "answer_start": [ 757 ], "text": [ "Maldives" ] }
20
1 और 2 शताब्दी के दौरान दक्षिणी भारत के चेरस, चोल और पांडिओं के रोमन मिस्र और तमिल राज्यों के बीच विकसित गहन व्यापार संबंध थे। ऊपर इंडोनेशियाई लोगों की तरह, पश्चिमी नाविकों ने समुद्र पार करने के लिए मानसून का इस्तेमाल किया एरिथ्रेअन सागर के पेरिप्लस के अज्ञात लेखक इस मार्ग का वर्णन करता है, साथ ही साथ वस्तुओं के अफ्रीका और भारत लगभग 1 सीई के किनारे पर विभिन्न वाणिज्यिक बंदरगाहों के साथ व्यापार किया गया था। इन व्यापारिक बस्तियों में लाल सागर तट पर मोसीलोन और ओपन थे। प्रशांत महासागर के विपरीत जहां पॉलिनेशिया की सभ्यता दूर-दूर तक द्वीपों और एटोल पर पहुंच गई थी और उनसे आबादी हुई थी, औपनिवेशिक काल तक लगभग सभी द्वीपों, आर्चिपेलॅगो और हिंद महासागर के एंटोल्स निर्जन थे। यद्यपि एशिया के तटीय राज्यों और अफ्रीका के कुछ हिस्सों में कई प्राचीन सभ्यताएं थीं, लेकिन मालदीव केंद्रीय भारतीय महासागर क्षेत्र में एकमात्र द्वीप समूह थे जहां एक प्राचीन सभ्यता विकसित हुई थी। मालदीव के जहाजों ने पास के तटों की यात्रा करने के लिए भारतीय मॉनसून चालू का इस्तेमाल किया। 1405 से 1433 तक एडमिरल झेंग ने हिंद महासागर के माध्यम से कई खजाने यात्राओं पर अंततः अंततः पूर्वी अफ्रीका के तटीय देशों तक पहुंचने वाले मिंग राजवंश के बड़े बेड़े का नेतृत्व किया। 1497 में पुर्तगाली नाविक वास्को द गामा ने केप ऑफ गुड होप को गोल कर दिया और भारत के लिए पाल करने वाले पहले यूरोपीय और बाद में सुदूर पूर्व बन गए। यूरोपीय जहाजों, भारी तोप से सशस्त्र, जल्दी व्यापार पर हावी। पुर्तगाल ने महत्वपूर्ण जलडमरूमध्य और बंदरगाहों पर किलों की स्थापना के द्वारा श्रेष्ठता प्राप्त की। अफ्रीका और एशिया के तट के साथ उनकी आधिकारिकता 17 वीं सदी के मध्य तक चली। बाद में, पुर्तगाली को अन्य यूरोपीय शक्तियों द्वारा चुनौती दी गई थी डच ईस्ट इंडिया कंपनी (1602-1798) ने हिंद महासागर के पार ईस्ट के साथ व्यापार पर नियंत्रण की मांग की। फ्रांस और ब्रिटेन ने क्षेत्र के लिए व्यापारिक कंपनियों की स्थापना की।
दक्षिणी भारत के चेरों, चोल और पांड्यों के साथ रोमन मिस्र और तमिल साम्राज्यों का व्यापारिक संबंध किस शताब्दी में अत्यधिक था ?
{ "text": [ "1 और 2 शताब्दी" ], "answer_start": [ 0 ] }
In which century did the Roman Egyptian and Tamil kingdoms have a trade relationship with the Cheras, Cholas, and Pandyas of southern India?
During the 1 and 2 centuries, Roman, Chola and Pandi of Southern India had intensive trade relations developed between Roman Egypt and Tamil states.Like the Indonesian people above, Western sailors used monsoon to cross the sea. Unknown writer of Periplus of the Erythreon Sea describes this route, as well as the objects of Africa and India about 1 CEBusiness was done with.These trading settlements were Milon and Open on the Red Sea coast.Unlike the Pacific Ocean, where the civilization of Polynesia reached far and wide on islands and atols and had a population, almost all the islands, Archiplogs and Antols of the Indian Ocean were uninhabited until the colonial period.Although there were many ancient civilizations in the coastal states of Asia and parts of Africa, the Maldives were the only islands in the Central Indian Ocean region where an ancient civilization developed.Maldives ships used Indian monsoon current to travel to nearby shores.From 1405 to 1433, Admiral Zheng led the big fleet of the Ming dynasty that eventually reached the coastal countries of East Africa on several treasure trips through the Indian Ocean.In 1497, the Portuguese sailor Vasco the Gama scored the Cape of Good Hope and became the first European and later the Far East to raise India.European ships, armed with heavy cannon, dominating quick business.Portugal achieved superiority by the establishment of forts at the important strait and ports.Their officiality along the coast of Africa and Asia lasted until the middle of the 17th century.Later, Portuguese was challenged by other European powers Dutch East India Company (1602–1798) demanded control of trade with East across the Indian Ocean.France and Britain established business companies for the region.
{ "answer_start": [ 0 ], "text": [ "1st and 2nd centuries" ] }
21
1 और 2 शताब्दी के दौरान दक्षिणी भारत के चेरस, चोल और पांडिओं के रोमन मिस्र और तमिल राज्यों के बीच विकसित गहन व्यापार संबंध थे। ऊपर इंडोनेशियाई लोगों की तरह, पश्चिमी नाविकों ने समुद्र पार करने के लिए मानसून का इस्तेमाल किया एरिथ्रेअन सागर के पेरिप्लस के अज्ञात लेखक इस मार्ग का वर्णन करता है, साथ ही साथ वस्तुओं के अफ्रीका और भारत लगभग 1 सीई के किनारे पर विभिन्न वाणिज्यिक बंदरगाहों के साथ व्यापार किया गया था। इन व्यापारिक बस्तियों में लाल सागर तट पर मोसीलोन और ओपन थे। प्रशांत महासागर के विपरीत जहां पॉलिनेशिया की सभ्यता दूर-दूर तक द्वीपों और एटोल पर पहुंच गई थी और उनसे आबादी हुई थी, औपनिवेशिक काल तक लगभग सभी द्वीपों, आर्चिपेलॅगो और हिंद महासागर के एंटोल्स निर्जन थे। यद्यपि एशिया के तटीय राज्यों और अफ्रीका के कुछ हिस्सों में कई प्राचीन सभ्यताएं थीं, लेकिन मालदीव केंद्रीय भारतीय महासागर क्षेत्र में एकमात्र द्वीप समूह थे जहां एक प्राचीन सभ्यता विकसित हुई थी। मालदीव के जहाजों ने पास के तटों की यात्रा करने के लिए भारतीय मॉनसून चालू का इस्तेमाल किया। 1405 से 1433 तक एडमिरल झेंग ने हिंद महासागर के माध्यम से कई खजाने यात्राओं पर अंततः अंततः पूर्वी अफ्रीका के तटीय देशों तक पहुंचने वाले मिंग राजवंश के बड़े बेड़े का नेतृत्व किया। 1497 में पुर्तगाली नाविक वास्को द गामा ने केप ऑफ गुड होप को गोल कर दिया और भारत के लिए पाल करने वाले पहले यूरोपीय और बाद में सुदूर पूर्व बन गए। यूरोपीय जहाजों, भारी तोप से सशस्त्र, जल्दी व्यापार पर हावी। पुर्तगाल ने महत्वपूर्ण जलडमरूमध्य और बंदरगाहों पर किलों की स्थापना के द्वारा श्रेष्ठता प्राप्त की। अफ्रीका और एशिया के तट के साथ उनकी आधिकारिकता 17 वीं सदी के मध्य तक चली। बाद में, पुर्तगाली को अन्य यूरोपीय शक्तियों द्वारा चुनौती दी गई थी डच ईस्ट इंडिया कंपनी (1602-1798) ने हिंद महासागर के पार ईस्ट के साथ व्यापार पर नियंत्रण की मांग की। फ्रांस और ब्रिटेन ने क्षेत्र के लिए व्यापारिक कंपनियों की स्थापना की।
अफ्रीका और भारत विभिन्न वाणिज्यिक बंदरगाहों के साथ माल का व्यापार किस शताब्दी से किया करते थे ?
{ "text": [ "1 सीई" ], "answer_start": [ 334 ] }
From which century did Africa and India trade goods with different commercial ports?
During the 1 and 2 centuries, Roman, Chola and Pandi of Southern India had intensive trade relations developed between Roman Egypt and Tamil states.Like the Indonesian people above, Western sailors used monsoon to cross the sea. Unknown writer of Periplus of the Erythreon Sea describes this route, as well as the objects of Africa and India about 1 CEBusiness was done with.These trading settlements were Milon and Open on the Red Sea coast.Unlike the Pacific Ocean, where the civilization of Polynesia reached far and wide on islands and atols and had a population, almost all the islands, Archiplogs and Antols of the Indian Ocean were uninhabited until the colonial period.Although there were many ancient civilizations in the coastal states of Asia and parts of Africa, the Maldives were the only islands in the Central Indian Ocean region where an ancient civilization developed.Maldives ships used Indian monsoon current to travel to nearby shores.From 1405 to 1433, Admiral Zheng led the big fleet of the Ming dynasty that eventually reached the coastal countries of East Africa on several treasure trips through the Indian Ocean.In 1497, the Portuguese sailor Vasco the Gama scored the Cape of Good Hope and became the first European and later the Far East to raise India.European ships, armed with heavy cannon, dominating quick business.Portugal achieved superiority by the establishment of forts at the important strait and ports.Their officiality along the coast of Africa and Asia lasted until the middle of the 17th century.Later, Portuguese was challenged by other European powers Dutch East India Company (1602–1798) demanded control of trade with East across the Indian Ocean.France and Britain established business companies for the region.
{ "answer_start": [ 334 ], "text": [ "1 CE" ] }
22
1.पंडुक अथवा सहलिन (बंगाल का सेन वंश) नंदराज महापद्मनंद के जेष्ट पुत्र पंडुक जिनको पुराणों में सहल्य अथवा सहलिन कहा गया है । नंदराज के शासनकाल में उत्तर बिहार में स्थित वैशाली के कुमार थे । तथा उनकी मृत्यु के बाद भी उनके वंशज मगध साम्राज्य के प्रशासक के रूप में रहकर शासन करते रहे। इन के वंशज आगे चलकर पूरब दक्षिण की ओर बंगाल चले गए हो और अपने पूर्वज चक्रवर्ती सम्राट महापदम नंद के नाम पर सेन नामांतरण कर शासन करने लगे हो और उसी कुल से बंगाल के आज सूर्य राजा वीरसेन हुई जो मथुरा सुकेत स्थल एवं मंडी के सेन वंश के जनक बन गए जो 330 ईसवी पूर्व से 1290 ईस्वी पूर्व तक शासन किए। 2.पंडू गति अथवा सुकल्प (अयोध्या का देव वंश) आनंद राज के द्वितीय पुत्र को महाबोधि वंश में पंडुगति तथा पुराणों में संकल्प कहा गया है । कथासरित्सागर के अनुसार अयोध्या में नंद राज्य का सैन्य शिविर था जहां संकल्प एक कुशल प्रशासक एवं सेनानायक के रूप में रहकर उसकी व्यवस्था देखते थे तथा कौशल को अवध राज्य बनाने में अपनी अहम भूमिका निभाई अवध राज्य आणि वह राज्य जहां किसी भी प्रकार की हिंसा या बलि पूजा नहीं होती हो जबकि इसके पूर्व यहां पूजा में पशुबलि अनिवार्य होने का विवरण प्राचीन ग्रंथों में मिलता है जिस को पूर्णतया समाप्त कराया और यही कारण है कि उन्हें सुकल्प तक कहा गया है यानी अच्छा रहने योग्य स्थान बनाने वाला इन्हीं के उत्तराधिकारी 185 ईस्वी पूर्व के बाद मूल्य वायु देव देव के रूप में हुए जिनके सिक्के अल्मोड़ा के पास से प्राप्त हुए हैं3.भूत पाल अथवा भूत नंदी (विदिशा का नंदी वंश) चक्रवर्ती सम्राट महापद्मनंद के तृतीय पुत्र भूत पाल विदिशा के कुमार अथवा प्रकाशक थे। नंदराज के शासनकाल में उनकी पश्चिम दक्षिण के राज्यों के शासन प्रबंध को देखते थे। विदिशा के यह शासक कालांतर में पद्मावती एवं मथुरा के भी शासक रहे तथा बौद्ध धर्म का व्यापक प्रचार-प्रसार की इतिहासकारों ने भूतनंदी के शासनकाल को 150 वर्ष पूर्व से मानते हैं। 4.राष्ट्रपाल (महाराष्ट्र का सातवाहन कलिंग का मेघ वाहन वंश) महाबोधि वंश के अनुसार नंदराज के चौथे पुत्र राष्ट्रपाल थे। राष्ट्रपाल के कुशल प्रशासक एवं प्रतापी होने से इस राज्य का नाम राष्ट्रपाल के नाम पर महाराष्ट्र कहा जाने लगा यह गोदावरी नदी के उत्तर तट पर पैठन अथवा प्रतिष्ठान नामक नगर को अपनी राजधानी बनाई थी। राष्ट्रपाल द्वारा ही मैसूर के क्षेत्र, अश्मक राज्य एवं महाराष्ट्र के राज्यों की देखभाल प्रशासक के रूप में की जाती थी जिसकी केंद्रीय व्यवस्था नंदराज महापद्मनंद के हाथों में रहती थी। राष्ट्रपाल के पुत्र ही सातवाहन एवं मेघवाल थे । जो बाद में पूर्वी घाट उड़ीसा क्षेत्र पश्चिमी घाट महाराष्ट्र क्षेत्र के अलग-अलग शासक बन गए। ब्राहमणी ग्रंथों पुराणों में इन्हें आंध्र भृत्य कहा गया है। 5.गोविशाणक(उत्तराखंड का कुलिंद वंश) महाबोधि वंश के अनुसार नंदराज महापद्मनंद के पांचवे पुत्र गोविशाणक थे।
राष्ट्रपाल ने किस क्षेत्र को अपनी राजधानी बनाई थी ?
{ "text": [ "पैठन अथवा प्रतिष्ठान" ], "answer_start": [ 1938 ] }
Which region was made the capital by the Rashtrapal?
1. Panduk or Sahalin (Sen dynasty of Bengal) Panduk, the first son of Nandraj Mahapadmanand, who is called Sahalya or Sahalin in the Puranas.During the reign of Nandraj, there was Kumar of Vaishali located in North Bihar.And even after his death, his descendants ruled as the administrator of the Magadha Empire.The descendants of these have later moved to Bengal towards the east south and started ruling the Sen by renaming Sen in the name of Chakravarti Emperor Mahapadam Nanda and from the same clan, Surya Raja Veerasen of Bengal today became Veerasen which is the Mathura Suket Site and the Sen dynasty of MandiHe became the father of who ruled from 330 BC to 1290 BC.2. Pandu speed or sovereignty (Dev dynasty of Ayodhya) Anand Raj's second son is called Pandugati in the Mahabodhi dynasty and resolution in the Puranas.According to Kathasaritsagar, there was a military camp of Nanda state in Ayodhya where Sankalp used to live as a skilled administrator and commander and played its important role in making Kaushal a Awadh kingdom, Awadh state molestation where any kind of violence or sacrificeBefore this, the details of the animal sacrifice being compulsory in worship here are found in the ancient texts, which is completely abolished and that is why they have been called until the solution, that is, the successor of the one who makes good living places is called the successor of 185 AD.The later values were in the form of Vayu Dev Dev, whose coins were obtained from Almora.During the reign of Nandraj, he saw the regime of the states of the west south.This ruler of Vidisha was also the ruler of Padmavati and Mathura in time and historians consider the ghost's reign of 150 years ago to widely propagate Buddhism.4. The President of the President (Megh Vehicle Dynasty of Satavahana Kalinga of Maharashtra) was the fourth son of Nandraj according to the Mahabodhi dynasty.Due to the efficient administrator and illustrious of the Rashtra, the name of this state came to be called Maharashtra in the name of the Rashtra Governor, it was made a city called Paithan or Pratishthan on the north bank of Godavari river.It was only by the Nation that the region of Mysore, Ashmak state and the states of Maharashtra were looked after as the administrator, whose central system lived in the hands of Nandraj Mahapadmanand.The sons of the Nation were Satavahana and Meghwal.Which later became the Eastern Ghat Orissa region of the Western Ghats of the Maharashtra region separate ruler.In Brahmani texts Puranas, they have been called Andhra Bhakti.5. Govishanak (Kulind dynasty of Uttarakhand) was Govishakhanak, the fifth son of Nandraj Mahapadmanand, according to the Mahabodhi dynasty.
{ "answer_start": [ 1938 ], "text": [ "the creation or establishment of" ] }
23
1.पंडुक अथवा सहलिन (बंगाल का सेन वंश) नंदराज महापद्मनंद के जेष्ट पुत्र पंडुक जिनको पुराणों में सहल्य अथवा सहलिन कहा गया है । नंदराज के शासनकाल में उत्तर बिहार में स्थित वैशाली के कुमार थे । तथा उनकी मृत्यु के बाद भी उनके वंशज मगध साम्राज्य के प्रशासक के रूप में रहकर शासन करते रहे। इन के वंशज आगे चलकर पूरब दक्षिण की ओर बंगाल चले गए हो और अपने पूर्वज चक्रवर्ती सम्राट महापदम नंद के नाम पर सेन नामांतरण कर शासन करने लगे हो और उसी कुल से बंगाल के आज सूर्य राजा वीरसेन हुई जो मथुरा सुकेत स्थल एवं मंडी के सेन वंश के जनक बन गए जो 330 ईसवी पूर्व से 1290 ईस्वी पूर्व तक शासन किए। 2.पंडू गति अथवा सुकल्प (अयोध्या का देव वंश) आनंद राज के द्वितीय पुत्र को महाबोधि वंश में पंडुगति तथा पुराणों में संकल्प कहा गया है । कथासरित्सागर के अनुसार अयोध्या में नंद राज्य का सैन्य शिविर था जहां संकल्प एक कुशल प्रशासक एवं सेनानायक के रूप में रहकर उसकी व्यवस्था देखते थे तथा कौशल को अवध राज्य बनाने में अपनी अहम भूमिका निभाई अवध राज्य आणि वह राज्य जहां किसी भी प्रकार की हिंसा या बलि पूजा नहीं होती हो जबकि इसके पूर्व यहां पूजा में पशुबलि अनिवार्य होने का विवरण प्राचीन ग्रंथों में मिलता है जिस को पूर्णतया समाप्त कराया और यही कारण है कि उन्हें सुकल्प तक कहा गया है यानी अच्छा रहने योग्य स्थान बनाने वाला इन्हीं के उत्तराधिकारी 185 ईस्वी पूर्व के बाद मूल्य वायु देव देव के रूप में हुए जिनके सिक्के अल्मोड़ा के पास से प्राप्त हुए हैं3.भूत पाल अथवा भूत नंदी (विदिशा का नंदी वंश) चक्रवर्ती सम्राट महापद्मनंद के तृतीय पुत्र भूत पाल विदिशा के कुमार अथवा प्रकाशक थे। नंदराज के शासनकाल में उनकी पश्चिम दक्षिण के राज्यों के शासन प्रबंध को देखते थे। विदिशा के यह शासक कालांतर में पद्मावती एवं मथुरा के भी शासक रहे तथा बौद्ध धर्म का व्यापक प्रचार-प्रसार की इतिहासकारों ने भूतनंदी के शासनकाल को 150 वर्ष पूर्व से मानते हैं। 4.राष्ट्रपाल (महाराष्ट्र का सातवाहन कलिंग का मेघ वाहन वंश) महाबोधि वंश के अनुसार नंदराज के चौथे पुत्र राष्ट्रपाल थे। राष्ट्रपाल के कुशल प्रशासक एवं प्रतापी होने से इस राज्य का नाम राष्ट्रपाल के नाम पर महाराष्ट्र कहा जाने लगा यह गोदावरी नदी के उत्तर तट पर पैठन अथवा प्रतिष्ठान नामक नगर को अपनी राजधानी बनाई थी। राष्ट्रपाल द्वारा ही मैसूर के क्षेत्र, अश्मक राज्य एवं महाराष्ट्र के राज्यों की देखभाल प्रशासक के रूप में की जाती थी जिसकी केंद्रीय व्यवस्था नंदराज महापद्मनंद के हाथों में रहती थी। राष्ट्रपाल के पुत्र ही सातवाहन एवं मेघवाल थे । जो बाद में पूर्वी घाट उड़ीसा क्षेत्र पश्चिमी घाट महाराष्ट्र क्षेत्र के अलग-अलग शासक बन गए। ब्राहमणी ग्रंथों पुराणों में इन्हें आंध्र भृत्य कहा गया है। 5.गोविशाणक(उत्तराखंड का कुलिंद वंश) महाबोधि वंश के अनुसार नंदराज महापद्मनंद के पांचवे पुत्र गोविशाणक थे।
महापद्मनन्द ने सबसे पहले किसे प्रशासक नियुक्त किया था?
{ "text": [ "" ], "answer_start": [ null ] }
Who was the first administrator appointed by Mahapadmananda?
1. Panduk or Sahalin (Sen dynasty of Bengal) Panduk, the first son of Nandraj Mahapadmanand, who is called Sahalya or Sahalin in the Puranas.During the reign of Nandraj, there was Kumar of Vaishali located in North Bihar.And even after his death, his descendants ruled as the administrator of the Magadha Empire.The descendants of these have later moved to Bengal towards the east south and started ruling the Sen by renaming Sen in the name of Chakravarti Emperor Mahapadam Nanda and from the same clan, Surya Raja Veerasen of Bengal today became Veerasen which is the Mathura Suket Site and the Sen dynasty of MandiHe became the father of who ruled from 330 BC to 1290 BC.2. Pandu speed or sovereignty (Dev dynasty of Ayodhya) Anand Raj's second son is called Pandugati in the Mahabodhi dynasty and resolution in the Puranas.According to Kathasaritsagar, there was a military camp of Nanda state in Ayodhya where Sankalp used to live as a skilled administrator and commander and played its important role in making Kaushal a Awadh kingdom, Awadh state molestation where any kind of violence or sacrificeBefore this, the details of the animal sacrifice being compulsory in worship here are found in the ancient texts, which is completely abolished and that is why they have been called until the solution, that is, the successor of the one who makes good living places is called the successor of 185 AD.The later values were in the form of Vayu Dev Dev, whose coins were obtained from Almora.During the reign of Nandraj, he saw the regime of the states of the west south.This ruler of Vidisha was also the ruler of Padmavati and Mathura in time and historians consider the ghost's reign of 150 years ago to widely propagate Buddhism.4. The President of the President (Megh Vehicle Dynasty of Satavahana Kalinga of Maharashtra) was the fourth son of Nandraj according to the Mahabodhi dynasty.Due to the efficient administrator and illustrious of the Rashtra, the name of this state came to be called Maharashtra in the name of the Rashtra Governor, it was made a city called Paithan or Pratishthan on the north bank of Godavari river.It was only by the Nation that the region of Mysore, Ashmak state and the states of Maharashtra were looked after as the administrator, whose central system lived in the hands of Nandraj Mahapadmanand.The sons of the Nation were Satavahana and Meghwal.Which later became the Eastern Ghat Orissa region of the Western Ghats of the Maharashtra region separate ruler.In Brahmani texts Puranas, they have been called Andhra Bhakti.5. Govishanak (Kulind dynasty of Uttarakhand) was Govishakhanak, the fifth son of Nandraj Mahapadmanand, according to the Mahabodhi dynasty.
{ "answer_start": [ null ], "text": [ "" ] }
README.md exists but content is empty. Use the Edit dataset card button to edit it.
Downloads last month
1
Edit dataset card

Collection including ai4bharat/IndicQA-Translated